shishu ke janm ki uchit avastha kaunasi hoti hai

शिशु के जन्म की उचित अवस्था कौनसी होती है और शिशु को जन्म के लिए उचित अवस्था में लाना ने तरीके

best birth position
best birth position

यदि आपके शिशु का सिर नीचे वाली अवस्था में है, जहां उसके सिर का पिछला हिस्सा थोड़ा आपके पेट के सामने की तरफ है तो इस अवस्था को एंटीरियर अवस्था कहते है यह अवस्था ही शिशु जन्म की सबसे उचित अवस्था है इस अवस्था में प्रसव आसान और कम समय में हो जाता है ज्यादातर शिशु गर्भावस्था के आखरी चरण इस अवस्था में आ जाते हैं
एंटीरियर अवस्था में शिशु आपके pelvic  के घुमाव में सही तरीके से फिट हो जाता है और प्रसव के समय शिशु अपनी पीठ सिकोड़ लेता है और अपनी ठुड्डी को अपनी छाती में समेट लेता है। यदि आपका शिशु इस अवस्था में है तो शिशु के जन्म में आसानी होगी क्योंकि: 
संकुचन के समय आपके शिशु का सिर गर्भाशय ग्रीवा पर दबाव डालता है जिससे गर्भाशय ग्रीवा को ओपन होने में मदद मिलती है और शरीर में प्रसव के लिए जरुरी हॉर्मोनों उत्पन होने लगते है जिसे प्रसव में आसानी होती है
पोस्टीरियर अवस्था – शिशु का सिर नीचे की ओर होता है परन्तु उसके सिर का पिछला हिस्सा आपकी रीढ़ (पीठ से सटी हुई स्थिति) की तरफ होता है। लगभग 10 में से एक शिशु का जन्म इसी (बैक-टू-बैक अवस्था) अवस्था से होता है
हालांकि इस अवस्था में प्रसव को थोड़ा मुश्किल हो सकता है परन्तु ज्यादातर बैक-टू-बैक शिशुओ का जन्म नार्मल डिलीवरी से ही होता है  इस अवस्था में रीढ़ की हड्डी में ज्यादा दर्द हो सकता है क्योकि शिशु खोपड़ी का जोर आपकी रीढ़ की हड्डी पर होता है इस अवस्था में प्रसव  लम्बे समय तक चल सकता है इसके आलावा इस अवस्था  amniotic fluid की थेली प्रसव के शुरू में ही फट सकती है पोस्टीरियर अवस्था वाले अधिकतर शिशु प्रसव के समय एंटीरियर अवस्था में आ जाते है इसके लिए शिशु को 180 डिग्री घूमना पड़ता है

शिशु को एंटीरियर अवस्था में लाने (शिशु जन्म की उचित अवस्था में लाने) के लिए ये कार्य करे

best exercize
best exercize

1.प्रेगनेंसी के आखरी दिनों में जब आप बैठे आपके पेल्विक का झुकाव पीछे सहारा लेने के बजाय आगे की तरफ घुटनों पर दबाव डालने का प्रयास करें
2.प्रेगनेंसी के आखरी चरण में फर्श पर पौंछा जरुर लगाये
3. यदि आप नोकरी करती है और ज्यादा समय तक बैठे रहकर काम करना पड़ता है तो बीच-बीच में इधर-उधर घुमती रहे और नियमित अंतराल से विश्राम जरुर करे
4. प्रेगनेंसी के आखरी दिनों में रात को अच्छी नींद ले और तनाव को अपने आस-पास ही ना आने दे
5.प्रेगनेंसी के आखरीदिनों में बहुत अधिक समय के लिए सोने की अवस्था या बैठने की अवस्था के ना रहे बल्कि चलती-फिरती रहे और नियमित रूप से हल्की –फुल्की एक्सरसाइज भी करती रहे
6.आखरी चरण में रोजाना दिन में दो बार 10-10 मिनट के लिए आप अपने हाथों और घुटनों के बल वाली एक्सरसाइज करे इसे बिडलासन पोजीशन के नाम जाना जाता है यह पोजीशन शिशु को एंटीरियर अवस्था में लाने बहुत ही मददगार है। इस एक्सरसाइज से आपका बच्चा आपकी रीढ़ की हड्डी से दूर हो जाता है, जिससे पीठ दर्द में भी आराम मिलता है और शिशु को अपनी स्थिति बदलने में भी मदद मिलती है
7. इस समय आपके शरीर को अधिक पोषण की आवश्यकता होती है इसलिए आप थोड़ी-थोड़ी देर से पोष्टिक आहार लेती है और तरल पदार्थो का ज्यादा सेवन करे जिससे पाचन सम्बंधित समस्या भी नहीं होगी और आपका शरीर भी हाइड्रेटेड रहेगा जिससे पानी की कमी भी नही होगी
शिशु एंटीरियर अवस्था आने का लक्षण –
यदि प्रसव होने के कुछ दिन पहले आपको पेट में हल्का-हल्का दर्द महसूस और ज्यादा थकान हो रही है तो यह आपके शिशु के एंटीरियर अवस्था (जन्म की उचित अवस्था) में आने का संकेत हो सकता है  

shishu ke janm ki uchit avastha kaunasi hoti hai aur shishu ko janm ke lea uchit avastha me lana ne tarike

Yadi Aapke shishu Ka sir niche vali avastha me hai, jahan Uske sir Ka pichhala hissa thoda Aapke Pet ke samane ki tarf hai to is avastha ko entiRear avastha kahte hai Yah avastha hi shishu janm ki Sabse uchit avastha hai is avastha me prasv aasan aur kam Samay me ho jata hai Jyadatar shishu garbhavastha ke aakhari charn is avastha me aa jate hain
entiRear avastha me shishu Aapke pelvic ke Ghumav me sahi tarike se fit ho jata hai aur prasv ke Samay shishu Apni pith sicod leta hai aur Apni thudD ko Apni chhati me sameta leta hai. Yadi aapKa shishu is avastha me hai to shishu ke janm me aasani hogi kyonki:
snkuchan ke Samay Aapke shishu Ka sir garbhashay griva par dabav daalata hai Jisse garbhashay griva ko Open hone me help milati hai aur sharir me prasv ke lea jaruri hormono utpan hone lgate hai jise prasv me aasani hoti hai
postiRear avastha – shishu Ka sir niche ki or Hota hai parntu Uske sir Ka pichhala hissa Aapki ridh (pith se sti hui sthiti) ki tarf Hota hai. Lagbahg 10 me se ek shishu Ka janm isi (baik-to-baik avastha) avastha se Hota hai
halanki is avastha me prasv ko thoda mushkil ho skata hai parntu Jyadatar baik-to-baik shishuo Ka janm narmal dilivari se hi Hota hai is avastha me ridh ki hadD me Jyada dard ho skata hai kyoki shishu khaopadi Ka jor Aapki ridh ki hadD par Hota hai is avastha me prasv lambe Samay tak chal skata hai Iske aalava is avastha amniotic fluid ki theli prasv ke shuru me hi phat Sakti hai postiRear avastha vale adhikatr shishu prasv ke Samay entiRear avastha me aa jate hai Iske lea shishu ko 180 Degree Ghumana pdata hai
shishu ko entiRear avastha me lane (shishu janm ki uchit avastha me lane) ke lea ye Kary kare
1.preganensi ke aakhari dino me jab aap baithe Aapke pelvik Ka jhuKav pichhe sahara lene ke bajay aage ki tarf Ghutanon par dabav daalane Ka prayas karen
2.preganensi ke aakhari charn me pharsh par paunchha jarur lagaye
3. Yadi aap nokari karti hai aur Jyada Samay tak baithe rahkar Kam Karna pdata hai to bich-bich me idhar-udhar Ghumati rahe aur niyamit antaral se vishram jarur kare
4. preganensi ke aakhari dino me rat ko Acchi nind le aur tanav ko Apne aas-pass hi na aane de
5.preganensi ke aakharidino me bahut adhik Samay ke lea sone ki avastha ya baithane ki avastha ke na rahe balki chalti-Phirti rahe aur niyamit rup se halki –fullki ekSirsaij bhi karti rahe
6.aakhari charn me Everyday din me do bar 10-10 Minute ke lea aap Apne hathon aur Ghutanon ke bal vali ekSirsaij kare ise bidalasan pojishan ke Name jana jata hai Yah pojishan shishu ko entiRear avastha me lane bahut hi helpgar hai. is ekSirsaij se aapKa Baccha Aapki ridh ki hadD se dur ho jata hai, Jisse pith dard me bhi Aaram milata hai aur shishu ko Apni sthiti bdalne me bhi help milati hai
7. is Samay Aapke sharir ko adhik poshan ki aavashykata hoti hai islea aap thodi-thodi der se poshataik aahar leti hai aur tarl padartho Ka Jyada Seven kare Jisse paachan Related Problem bhi nahin hogi aur aapKa sharir bhi haidretaed rahega Jisse paani ki kami bhi nahi hogi
shishu entiRear avastha aane Ka lakshan –
Yadi prasv hone ke kuch din Pehle Aapko Pet me halKa-halKa dard mahsus aur Jyada thKan ho rahi hai to Yah Aapke shishu ke entiRear avastha (janm ki uchit avastha) me aane Ka snket ho skata hai
 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *