शिशु का गर्भ में ज्यादा एक्टिव रहने का क्या कारण shishu Ka garbh me Jyada active rahne Ka Kya Karan

शिशु का गर्भ में ज्यादा एक्टिव रहने का क्या कारण

आपके गर्भ में ही शिशु की एक विचित्र दुनिया होती है जिसमे शिशु अजब-गजब हरकते करता है
आप जो भी खाना खाती है शिशु उसका स्वाद लेता है यह स्वाद amniotic fluid के द्वारा लेता है जब आप कुछ मीठा खाती है तो  शिशु amniotic fluid ज्यादा अन्दर लेता है
आपका शिशु गर्भ में हिचकी भी लेता है हिचकी लेना pregnancy की पहली तिमाही से शुरू हो जाती है पर ये pregnancy के कुछ महीने बाद महसूस होती है
आपका शिशु गर्भ के अन्दर कभी-कभी रोता भी है और कभी-कभी हँसता है ये क्रियाए 7 महीने बाद होती है
शिशु आपकी आवाज सुनकर खुश भी होता है और प्रतिक्रिया में baby kicks करता है इसलिए अपने शिशु से बाते जरुर करे
गर्भ में शिशु जब हाथ-पैर हिलाकर थक जाता है तो प्रतिक्रिया में उबासी लेता है

shishu Ka garbh me Jyada active rahne Ka Kya Karan

Aapke garbh me hi shishu ki ek vichitr Duniya hoti hai jisame shishu ajab-gajb harkate karta hai
aap jo bhi Khana khati hai shishu usKa Swad leta hai Yah Swad amniotic fluid ke Dwara leta hai jab aap kuch mithaa khati hai to  shishu amniotic fluid Jyada andar leta hai
aapKa shishu garbh me hichaki bhi leta hai hichaki lena pregnancy ki pahli timonthi se shuru ho jati hai par ye pregnancy ke kuch mahine bad mahsus hoti hai
aapKa shishu garbh ke andar kabhi-kabhi rota bhi hai aur kabhi-kabhi hnsata hai ye kriyae 7 mahine bad hoti hai
shishu Aapki aavaj sunkar khaush bhi Hota hai aur pratikriya me baby kicks karta hai islea Apne shishu se Baate jarur kare
garbh me shishu jab hath-pair hilakar thak jata hai to pratikriya me ubasi leta hai

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *