शिशु गर्भ में क्या करता है और किन चीजो से जीवित रहता है shishu garbh me Kya karta hai aur kin chijo se jivit rahta hai

शिशु गर्भ में क्या करता है और किन चीजो से  जीवित रहता है

आपके द्वारा खाया जाने वाला आहार शिशु तक कैसे पहुँचता है वह जहा रहता है उसका माहौल कैसा है क्या करता है ऐसे बहुत से अनगिनित सवाल आपके दिमाग में आते है
शिशु को जीवित रहने में शरीर के तीन पार्ट्स मदद करते है
इनमे मुख्य भाग – प्लेसेंटा
यह आपके गर्भाशय की दीवार से जुड़ा रहता है जो शिशु को पोषण तत्व ,ऑक्सीजन व खून की सप्लाई करता है और यह pregnancy हार्मोन्स को रिलीज करता है और waste प्रोडक्ट्स को अन्दर से बाहर निकालता है जिसे शिशु अन्दर स्वस्थ रूप से विकसित हो सके, प्लेसेटा की पोजीशन सही होना बहुत आवश्यक है वरना premature delivery की संभावना अधिक हो जाती है
दूसरा भाग -गर्भनाल (umbilical cord)
गर्भनाल एक सिरे से प्लेसेंटा से जुडी होती है और दुसरे सिरे से शिशु से जुड़ी रहती है इसकी लम्बाई लगभग 50 cm होती है जिससे गर्भ में शिशु आसानी से इधर-उधर घूम सके ,शिशु के जन्म समय इस नाल को काटा जाता है इसका थोडा हिस्सा जन्म के बाद शिशु की नाभि से जुड़ा रहता है यह हिस्सा कुछ दिन बाद सुखकर अपने आप गिर जाता है आपको इसे बार-बार टच नहीं करना चाहिए
तीसरा मुख्य भाग -भ्रूण अवरण द्रव(amniotic fluid)
गर्भाशय में एक थैली(sac) होती है जिसके अन्दर भ्रूण अवरण द्रव होता है शिशु इसी fluid के अन्दर 9 महीने सुरक्षित रहता है इस fluid में शिशु को बाहरी झटके और दबाव नहीं लगते है गर्भावस्था में इसकी सही मात्रा होना अति आवश्यक है कई बार water break हो जाता है जो प्रसव का संकेत है असल में water break का अर्थ है कि amniotic थैली से amniotic fluid का बाहर निकल जाना , ऐसा होने आपको तुरंत हॉस्पिटल जाना चाहिए वरना शिशु की जान को खतरा हो सकता है

shishu garbh me Kya karta hai aur kin chijo se  jivit rahta hai

Aapke Dwara khaya jane vala aahar shishu tak kaise pahunchata hai vah jaha rahta hai usKa monthaul kaisa hai Kya karta hai aese bahut se anaginit saval Aapke dimag me aate hai
shishu ko jivit rahne me sharir ke tin paartas help karte hai
iname mukhay bhag – plessenta
Yah Aapke garbhashay ki divar se juda rahta hai jo shishu ko poshan tadv ,oksijan v khaun ki saplai karta hai aur Yah pregnancy harmons ko Release karta hai aur waste products ko andar se bahar niKalata hai jise shishu andar Swasth rup se vikasit ho sake, plesseta ki pojishan sahi Hona bahut aavashyak hai vrana premature delivery ki snbhaonea adhik ho jati hai
Dusra bhag -garbhanal (umbilical cord)
garbhanal ek sire se plessenta se juD hoti hai aur duSire sire se shishu se judi rahti hai isaki lambai Lagbahg 50 cm hoti hai Jisse garbh me shishu aasani se idhar-udhar Ghum sake ,shishu ke janm Samay is nal ko Kaata jata hai isKa thodaa hissa janm ke bad shishu ki nabhi se juda rahta hai Yah hissa kuch din bad sukhakar Apne aap gir jata hai Aapko ise bar-bar Touch nahin Karna chahiey
tiSira mukhay bhag -bhrun avarn drav(amniotic fluid)
garbhashay me ek Bag(sac) hoti hai jisake andar bhrun avarn drav Hota hai shishu isi fluid ke andar 9 mahine surakshait rahta hai is fluid me shishu ko bahari jhatke aur dabav nahin lgate hai garbhavastha me isaki sahi matra Hona ati aavashyak hai kai bar water break ho jata hai jo prasv Ka snket hai asal me water break Ka arth hai ki amniotic Bag se amniotic fluid Ka bahar nikal jana , Aesa hone Aapko turnt hospital jana chahiey vrana shishu ki jan ko khatra ho skata hai

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *