प्रेगनेंसी में तरबूज खाने के फायदे और नुकसान Pregnancy me tarbuj Khane ke fayade aur nukasan

प्रेगनेंसी में तरबूज खाने के फायदे और नुकसान  –

Watermelon-During-Pregnancy
Watermelon-During-Pregnancy

गर्मी का मौसम आते है सभी तरबूज खाने का लुफ्त उठाने लग जाते है क्योकि तरबूज हमें गर्मी से राहत देने में बहुत ही मददगार होता है तरबूज शरीर को ठंडक प्रदान करता है तरबूज बहुत ही रसीला होने के साथ-साथ विभिन्न पोष्टिक तत्वों से भरपूर होता है
परन्तु यदि आप गर्भवती है तो आपके मन में यह सवाल जरुर आता है कि मेरे लिए तरबूज खाना सुरक्षित है या नहीं
तरबूज का सेवन गर्भवती महिला के लिए काफी फायदेमंद है हालाँकि कई लोगो का कहना है कि तरबूज बहुत रसीला होने के कारण है इसे खाने से पेट के अंदर पल रहे शिशु को नुकसान हो सकता है, लेकिन ऐसा नहीं है हाँ यदि तरबूज का सेवन बहुत अधिक मात्रा में किया जाये तो यह नकुसानदायी हो सकता है, लेकिन कुछ बातों को ध्यान में रखकर इसका सेवन किया जाये तो इसके नुकसान कम और फायदे ज्यादा हैं आइये जानते कि प्रेग्नेंसी में तरबूर खाने के क्या फायदे और नुकसान हैं।

तरबूज खाने के फायदे

1.मांसपेशियों की जकड़न से राहत – प्रेग्नेंसी के दौरान कई तरह हार्मोन परिवतर्न के कारण शरीर में बहुत से बदलाव आते हैं जिससे वजन बढ़ने और मांसपेशियों व हड्डियों में जकड़न की शिकायत हो जाती है प्रेग्नेंसी के दौरान यह समस्या आम होती है परन्तु तरबूज के सेवन से इस समस्या में काफी हद तक राहत मिलती है।
2.हार्ट बर्न में राहत – प्रेगनेंसी के दौरान अक्सर पाचनतंत्र संबंधी समस्याएं (हार्ट बर्न और एसिडिटी) रहती हैं तरबूज शरीर को ठंढक प्रदान करता है जिससे हार्ट बर्न की समस्या में भी राहत मिलती है
3.मॉर्निंग सिकनेस कम करता है – गर्भावस्था में मॉर्निंग सिकनेस एक कॉमन प्रॉब्लम है हर गर्भवती महिला इससे परेशान रहती है रोजाना सुबह एक गिलास तरबूज का जूस पीने से मॉर्निंग सिकनेस की समस्या में काफी राहत मिलती है इससे आप पूरे दिन अपने आपको फ्रेश महसूस करेंगी।

watermelon-juice
watermelon-juice

4.डिहाइड्रेशन से बचाता है – डिहाइड्रेशन यानी शरीर में पानी की कमी हो जाना गर्भावस्था में डिहाइड्रेशन की समस्या होना आम बात है तरबूज में लगभग 90 प्रतिशत पानी होता है, ऐसे में इसका सेवन करने से गर्भवती महिलाये डिहाइड्रेशन की समस्या से बच सकती है
5.सूजन की समस्या में राहत – गर्भावस्था के दौरान महिलाये हाथ-पैरों में सुजन की समस्या से परेशान रहती है परन्तु तरबूज में मौजूद उच्च जल तत्व नसों और मांसपेशियों के अवरोध को कम करता है और सूजन की समस्या को दूर करता है।
6.ऊर्जावान बनाता है – तरबूज में बहुत से पोष्टिक तत्व मौजूद होते है जैसे- काफी मात्रा में पोटेशियम और मैग्नीशियम इसके अलावा इसमें विटामिन ए, बी-1 और बी-6 भी पाया है ये सारी चीजें गर्भवती महिलाओं को ऊर्जावान बनाती हैं और इनसे गर्भस्थ शिशु की प्रतिरक्षा प्रणाली का विकास होता है।

तरबूज से होने वाले नुकसान

1.गेस्ट्रिक समस्या – अधिक समय तक काटकर रखे हुए तरबूज को गर्भवती महिलाये ना खाये इस तरह के तरबूज को खाने से जी मिचलाना, उल्टी आना और पाचन तंत्र कमजोर होना जैसी समस्या हो सकती है।
2.गेस्टेशनल डाइबिटीज – गर्भावस्था के दौरान होने वाली डायबिटीज को गेस्टेशनल डायबिटीज कहा जाता है यदि गर्भवती महिला तरबूज का सेवन अधिक मात्रा में करती हैं, तो ये उसके लिए नुकसानदायक हो सकता है क्योकि ज्यादा मात्रा में तरबूज खाने से ब्लड शुगर लेवल काफी बढ़ जाता है, इससे गर्भकालीन डायबिटीज यानि गेस्टेशनल डाइबिटीज की समस्या होती है।
नोट- तरबूज शरीर से हानिकारक टोक्सिन को बाहर निकालकर आंतरिक अंगों को स्वस्थ बनाता है परन्तु अधिक मात्रा में तरबूज का सेवन करने से यह शरीर से आवश्यक पोषक तत्वों को भी बाहर निकाल देता है, जो आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है।

Pregnancy me tarbuj Khane ke fayade aur nukasan –

garmi Ka mausam aate hai sabhi tarbuj Khane Ka luft uthaane lag jate hai kyoki tarbuj Humen garmi se rahat dene me bahut hi helpgar Hota hai tarbuj sharir ko Thandk pradan karta hai tarbuj bahut hi rasila hone ke Saath-Saath vibhinn poshataik tadvon se bharpur Hota hai
parntu Yadi aap garbhavti hai to Aapke man me Yah saval jarur aata hai ki mere lea tarbuj Khana surakshait hai ya nahin
tarbuj Ka Seven garbhavti mahila ke lea Kafi fayademnd hai halanki kai logo Ka kahna hai ki tarbuj bahut rasila hone ke Karan hai ise Khane se Pet ke andar pal rahe shishu ko nukasan ho skata hai, lekin Aesa nahin hai han Yadi tarbuj Ka Seven bahut adhik matra me kiya jaye to Yah nakusanadayi ho skata hai, lekin kuch Baaton ko dhyan me rakhkar isKa Seven kiya jaye to Iske nukasan kam aur fayade Jyada hain aaiye janate ki pregnensi me tarbur Khane ke Kya fayade aur nukasan hain.
tarbuj Khane ke fayade
Maasapeshiyon ki jkadn se rahat – pregnensi ke dauran kai tarh harmon parivtarn ke Karan sharir me bahut se Badlav aate hain Jisse wajan (Weight) badhne aur Maasapeshiyon v haddiyon me jkadn ki shiKayat ho jati hai pregnensi ke dauran Yah Problem aam hoti hai parntu tarbuj ke Seven se is Problem me Kafi had tak rahat milati hai.
hartabrn me rahat – Pregnancy ke dauran Aksar paachantntr snbndhi Problems (hartabrn aur acidity) rahti hain tarbuj sharir ko thndhak pradan karta hai Jisse hartabrn ki Problem me bhi rahat milati hai
morning sikanes kam karta hai – garbhavastha me morning sikanes ek common Problem hai har garbhavti mahila Isse Pareshan rahti hai Everyday subah ek glass tarbuj Ka jus pine se morning sikanes ki Problem me Kafi rahat milati hai Isse aap pure din Apne Aapko fresh mahsus karengi.
dihaidreshan se bachhata hai – dihaidreshan yani sharir me paani ki kami ho jana garbhavastha me dihaidreshan ki Problem Hona aam Baat hai tarbuj me Lagbahg 90 pratishat paani Hota hai, aese me isKa Seven karne se garbhavti mahilaye dihaidreshan ki Problem se bachh Sakti hai
sujan ki Problem me rahat – garbhavastha ke dauran mahilaye hath-pairon me sujan ki Problem se Pareshan rahti hai parntu tarbuj me maujud uchch jal tadv nason aur Maasapeshiyon ke avarodh ko kam karta hai aur sujan ki Problem ko dur karta hai.
urjavan banata hai – tarbuj me bahut se poshataik tadv maujud hote hai jaise- Kafi matra me potaeshiyam aur maignishiyam Iske alava isamen vitamin e, bi-1 aur bi-6 bhi paaya hai ye sari chijen garbhavti mahilaon ko urjavan banati hain aur inase garbhasth shishu ki pratiraksha pranali Ka vikas Hota hai.
tarbuj se hone vale nukasan
gesTrick Problem – adhik Samay tak Kaatkar rakhe hue tarbuj ko garbhavti mahilaye na khaye is tarh ke tarbuj ko Khane se ji michalana, ulti aana aur paachan tntr kamjor Hona jaisi Problem ho Sakti hai.
geStationl daaibitij – garbhavastha ke dauran hone vali daayabitij ko geStationl daayabitij kaha jata hai Yadi garbhavti mahila tarbuj Ka Seven adhik matra me karti hain, to ye Uske lea nukasanadayak ho skata hai kyoki Jyada matra me tarbuj Khane se blood shugar leval Kafi badh jata hai, Isse garbhKalin daayabitij yani geStationl daaibitij ki Problem hoti hai.
nota- tarbuj sharir se haniKarak taoksin ko bahar niKalkar aantarik angon ko Swasth banata hai parntu adhik matra me tarbuj Ka Seven karne se Yah sharir se aavashyak poshak tadvon ko bhi bahar niKal deta hai, jo Aapke lea khatranak sabit ho skata hai.
 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *