pregnancy में 1 से 9 महीने में माँ और बच्चे में होने वाले बदलाव pregnancy me 1 se 9 mahine me ma aur bachche me hone vale Badlav

pregnancy में 1 से 9 महीने में माँ और बच्चे में होने वाले बदलाव

पहला महिना =4 वीक

fertilization के बाद इस महीने में बच्चे की काशिकाओ के साथ महत्वपूर्ण अंग जैसे पाचन, स्नायु और रक्त संचार प्रणाली का भी निर्माण शुरू हो जाता है

pregnant महिला के स्तन सवेदनशील होने लगते है हार्मोन्स परिवर्तन के कारण व्यवहार में बदलाव आने लगता है

दूसरा महिना

भ्रूण में होने वाले महत्वपूर्ण बदलाव जैसे हृदय, मस्तिष्क और फेफड़े विकसित होने लगते है

pregnant महिला में बदलाव ज्यादा नींद आना, खाने के लिए जी मचलना,गंध आने की क्षमता बढ़ना आदि

तीसरा महिना

इस महीने में भ्रूण में महत्वपूर्ण बदलाव आता है जैसे गुर्दे और आंत का निर्माण शुरू हो जाता है चेहरा उभर ने लगता है शिशु amniotic fluid में अपने हाथ-पैर हिलाने लगता है नाखुनो का विकास होने लगता है

pregnant महिला शिशु की धडकनों को सुन सकती है नाभि के बीच बनी लाइन ज्यादा गहरी हो जाती है

चोथा महिना

भ्रूम में महत्वपूर्ण बदलाव शिशु amniotic fluid को साँस के द्वारा अन्दर और बाहर लेने लगता है रक्त संचार प्रणाली और मूत्र मार्ग कार्य करने लगते है

pregnant महिला की कमर पर वजन का दबाव बढ़ने लगता है और शिशु की हलचल महसूस होने लगती है

पांचवा महिना

भ्रूण में महत्वपूर्ण बदलाव शिशु के सिर के बाल निकलने लगते है और शिशु के शरीर पर रोये , आँखों की पलके व भौये उभरने लगते है आँखों में हलचल होने लगती है

pregnant महिला के पैरो में सुजन आने लगती है पेट बढ़ा हुआ दिखने लगता है और खिंचाव महसूस होने लगता है और अचानक कोई खास चीज खाने की इच्छा होने लगती है

छठवां महिना

भ्रूण में महत्वपूर्ण बदलाव शिशु बाहर की आवाज पर प्रतिक्रिया देने लगता है शिशु की हाथो की रेखा उभरने लगती है और इस महीने से शिशु का वजन बढ़ने लगता है और शिशु के मसूड़े बनने लगते है

pregnant महिला की तकलीफ कम होने लगती है रक्त संचार बढ़ने के कारण शरीर का तापमान ज्यादा रहने लगता है

सातवाँ महिना

भ्रूण में महत्वपूर्ण बदलाव शिशु के मस्तिष्क का तेजी से विकास होने लगता है शिशु के शरीर के सभी अंग विकसित होने लगते है शिशु की त्वचा का रंग अभी तक लाल रहता है और फेफड़े साँस लेने लगते है

pregnant महिला के पैरो में ऐठन ,कब्ज और त्वचा पर खुजली होने लगती है गर्भाशय का आकार ऊपर की ओर बढ़ने लगता है अब सोने और साँस लेने में तकलीफ होने लगती है स्तनों में दूध आने लगता है

आठवां महिना

भ्रूण में होने वाले महत्वपूर्ण बदलाव शिशु की हड्डियाँ मजबूत होने लगती है सिर का आकार बढ़ने लगता है शिशु का आकर बढ़ने लगता है

pregnant महिला के शरीर में और ज्यादा भारीपन महसूस होने लगेगा साँस लेने में परेशानी होगी बार-बार यूरिन आने लगेगा

नोवाँ महिना

भ्रूण में महत्वपूर्ण बदलाव शिशु के सभी अंगो का विकास पूर्ण रूप से हो जायेगा शिशु की हलचल कम हो जाएगी क्योकि शिशु का आकर बढ़ जायेगा

pregnant महिला को अब कोई भी स्थिति आरामदायक नहीं लगेगी स्तनों में दूध की मात्रा बढ़ जाएगी अब आपका शरीर डिलीवरी के लिए तैयार होगा

pregnancy me 1 se 9 mahine me ma aur bachche me hone vale Badlav

pahla mahina =4 vik

fertilization ke bad is mahine me bachhche ki KashiKao ke Saath mahtvapurn ang jaise paachan, snayu aur rakt snchar pranali Ka bhi nirman shuru ho jata hai
pregnant mahila ke Breast sVednashil hone lgate hai harmons parivartan ke Karan vyavhar me Badlav aane lgata hai
Dusra mahina
bhrun me hone vale mahtvapurn Badlav jaise hrday, mastishak aur fephade vikasit hone lgate hai
pregnant mahila me Badlav Jyada nind aana, Khane ke lea ji mchalna,gndh aane ki kshamata bdhna aadi
tiSira mahina
is mahine me bhrun me mahtvapurn Badlav aata hai jaise gurde aur aant Ka nirman shuru ho jata hai chehara ubhar ne lgata hai shishu amniotic fluid me Apne hath-pair hilane lgata hai nakhauno Ka viKas hone lgata hai
pregnant mahila shishu ki dhadkanon ko sun Sakti hai nabhi ke bich bani lain Jyada gahri ho jati hai
chotha mahina
bhrum me mahtvapurn Badlav shishu amniotic fluid ko sans ke Dwara andar aur bahar lene lgata hai rakt snchar pranali aur mutr marg Kary karne lgate hai
pregnant mahila ki kamr par wajan (Weight) Ka dabav bdhne lgata hai aur shishu ki halchal mahsus hone lgati hai
paanchava mahina
bhrun me mahtvapurn Badlav shishu ke sir ke Baal nikalne lgate hai aur shishu ke sharir par roye , Aankhon ki palke v bhauye ubharne lgate hai Aankhon me halchal hone lgati hai
pregnant mahila ke pairo me sujan aane lgati hai Pet bdhaa huaa dikhane lgata hai aur khainchav mahsus hone lgata hai aur achanak koi khas chij Khane ki ichchha hone lgati hai
chhathvan mahina
bhrun me mahtvapurn Badlav shishu bahar ki aavaj par pratikriya dene lgata hai shishu ki hatho ki rekha ubharne lgati hai aur is mahine se shishu Ka wajan (Weight) bdhne lgata hai aur shishu ke masude Banne lgate hai
pregnant mahila ki tkalif kam hone lgati hai rakt snchar bdhne ke Karan sharir Ka Temperature Jyada rahne lgata hai
satavan mahina
bhrun me mahtvapurn Badlav shishu ke mastishak Ka teji se viKas hone lgata hai shishu ke sharir ke sabhi ang vikasit hone lgate hai shishu ki skin Ka Color abhi tak lal rahta hai aur fephade sans lene lgate hai
pregnant mahila ke pairo me aethan ,kabj aur skin par khaujali hone lgati hai garbhashay Ka aaKar upar ki or bdhne lgata hai ab sone aur sans lene me tkalif hone lgati hai Breaston me dudh aane lgata hai
aathavan mahina
bhrun me hone vale mahtvapurn Badlav shishu ki haddiyan mjabut hone lgati hai sir Ka aaKar bdhne lgata hai shishu Ka aakar bdhne lgata hai
pregnant mahila ke sharir me aur Jyada weightipan mahsus hone lagega sans lene me Pareshani hogi bar-bar Yourin aane lagega
novan mahina
bhrun me mahtvapurn Badlav shishu ke sabhi ango Ka viKas purn rup se ho jayega shishu ki halchal kam ho jaEggi kyoki shishu Ka aakar bdh jayega
pregnant mahila ko ab koi bhi sthiti Aaramdayak nahin lagegi Breaston me dudh ki matra bdh jaEggi ab aapKa sharir dilivari ke lea taiyar Hoga

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *