प्रेगनेंसी के दौरान शरीर का कौनसा भाग कितनी मात्रा में बढ़ता है Pregnancy ke dauran sharir Ka kaunasa bhag kitani matra me badhta hai

प्रेगनेंसी के दौरान शरीर का कौनसा भाग कितनी मात्रा में बढ़ता है

प्रेगनेंसी के दौरान वजन बढ़ना स्वभाविक है जैसे-जैसे गर्भ में शिशु का विकास होता है वैसे-वैसे आपका शरीर बढ़ता है और शरीर में कई बदलाव आते हैं pregnancy में नार्मल तरीके से वजन बढ़ना भी स्वस्थ pregnancy का संकेत माना जाता है
गर्भवती महिला का 11 किलों से 16 किलो तक वजन बढ़ना स्वस्थ माना जाता हैं और यदि पेट में जुड़वाँ बच्चे है तो वजन 18 किलों से 22 किलो तक होना चाहिए

आइये जाने प्रेगनेंसी में कौनसे अंग का कितना वजन बढ़ता है

नार्मल शिशु का वजन (जन्म के समय लगभग )- 2.8kg से 3.3kg होता है
आपके गर्भाशय के मांसपेशियों का वजन – 0.9kg होती है
प्लेसेंटा का वजन – 0.5kg होता है
गर्भवती महिला के ब्रैस्ट वजन – 0.4kg बढ़ जाता है
बढ़ हुये रक्त की मात्रा – 1.4kg होती है
शरीर के अतिरिक्त तरल पदार्थ जैसे एमनियोटिक फ्लूइड की मात्रा – 2.6kg होती है
इनके आलावा गर्भवती महिला के शरीर के कुछ अतिरिक्त वसा स्टोर रहती है यह स्तनपान के समय शरीर को उर्जा देती है इसकी मात्रा 2.5 kg होती है
pregnancy के दौरान वजन एक स्थिर गति से बढ़ना चाहिए वजन में अचानक वृद्धि या कमी होने पर आपको डॉक्टर की सलाह जरुर लेनी चाहिए
pregnancy के दौरान अनियमित रूप से वजन बढ़ने से बच्चे पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता हैं अधिक वजन बच्चे के स्वास्थ्य के लिए खतरा भी हो सकता है
pregnant महिला के वजन में अचानक वृद्धि होने से गर्भपात की समस्या भी हो सकती है और pregnancy के दौरान बहुत ज्यादा वजन बढ़ने से नार्मल डिलीवरी में भी समस्या आ सकती है

Pregnancy ke dauran sharir Ka kaunasa bhag kitani matra me badhta hai

Pregnancy ke dauran wajan (Weight) badhna svabhavik hai jaise-jaise garbh me shishu Ka viKas Hota hai vaise-vaise aapKa sharir badhta hai aur sharir me kai Badlav aate hain pregnancy me narmal tarike se wajan (Weight) bdhna bhi Swasth pregnancy Ka snket mana jata hai
garbhavti mahila Ka 11 kilon se 16 kilo tak wajan (Weight) bdhna Swasth mana jata hain aur Yadi Pet me judvan bachhche hai to wajan (Weight) 18 kilon se 22 kilo tak Hona chahiey

aaiye jane Pregnancy me kaunase ang Ka kitana wajan (Weight) badhta hai

narmal shishu Ka wajan (Weight) (janm ke Samay Lagbahg )- 2.8kg se 3.3kg Hota hai
Aapke garbhashay ke Maasapeshiyon Ka wajan (Weight) – 0.9kg hoti hai
plessenta Ka wajan (Weight) – 0.5kg Hota hai
garbhavti mahila ke Breast wajan (Weight) – 0.4kg bdh jata hai
badh huye rakt ki matra – 1.4kg hoti hai
sharir ke atirikt tarl padarth jaise Mniyotaik fluid ki matra – 2.6kg hoti hai
inake aalava garbhavti mahila ke sharir ke kuch atirikt vasa staor rahti hai Yah Breastpaan ke Samay sharir ko urja deti hai isaki matra 2.5 kg hoti hai
pregnancy ke dauran wajan (Weight) ek sthir gati se badhna chahiey wajan (Weight) me achanak vrddhi ya kami hone par Aapko doctor ki salah jarur leni chahiey
pregnancy ke dauran aniyamit rup se wajan (Weight) badhne se bachhche par pratiCool prabhav pad skata hain adhik wajan (Weight) bachhche ke svasthy ke lea khatra bhi ho skata hai
pregnant mahila ke wajan (Weight) me achanak vrddhi hone se Garbhpat ki Problem bhi ho Sakti hai aur pregnancy ke dauran bahut Jyada wajan (Weight) bdhne se narmal dilivari me bhi Problem aa Sakti hai

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *