प्रेगनेंसी के दौरान प्लास्टिक बोतल से पानी पीना सुरक्षित है नहीं pregnancy ke dauran plastic bottle se paani pina surkshait hai nahin

प्रेगनेंसी के दौरान प्लास्टिक बोतल से पानी पीना सुरक्षित है नहीं

plastic bottle
plastic bottle


यदि आप प्रेगनेंसी के दौरान प्ला‍स्ट‍िक की बोतल से पानी पीती हैं, तो क्या आप इसके नुकसान के बारे में जानती है  कि यह पानी आपके और आपके शिशु दोनों के लिए  कितना नुकसानदायक है

हाल ही में हुए एक अध्ययन में यह दावा किया गया है कि गर्भावस्था के दौरान लो क्वालिटी या BPA युक्त प्लास्ट‍िक बोतल से  पानी पीने वाली गर्भवती महिलाओं से जन्म लेने वाले शिशुओ को आगे जीवन में पेट से संबंधि‍त बीमारियां होने की संभावना अधिक रहती हैं
प्लास्ट‍िक की बोतल में पाया जाने वाले
BPA रसायन पेट में पाये जाने वाले अच्छे और बुरे जीवाणुओं का संतुलन बिगाड़ देता है इससे लीवर में दर्द और पेट में सूजन आ सकती है और इससे गर्भवती महिलाओं को भूख लगना कम हो जाती है
यह अध्ययन अमेरिकन सोसाइटी फॉर माइक्रोबायोलॉजी के शोधकर्ताओं ने किया है.
शोधकर्ताओं के अनुसार यह रसायन इतना घातक है कि गर्भ में पल रहा शिशु भी
BPA रसायन के संपर्क में आ सकता हैं और जन्म के बाद भी मां के दूध के द्वारा भी उनमें खतरनाक रसायन जा सकता हैं. इन खतरनाक रसायनों के संपर्क में आये शिशु को आगे की लाइफ में पेट से संबंध‍ित परेशानियां अधिक रहती है
  आइये जाने BPA रसायन  क्या है BPA का पूरा नाम  है बिस्फेनॉल ए यह एक तरह का औद्योगिक रासायन है, इस रसायन का प्रयोग 1960 से प्लास्ट‍िक बनाने के लिए किया जाता है.
BPA रसायन प्लास्ट‍िक के बने कई कंटेनरों और बोतलों में पाया जाता है. खासकर सस्ते और खराब क्वालिटी वाले बोतलों में इसका प्रयोग ज्यादा किया है शोधकर्ताओं ने दावा किया है इस तरह के प्लास्ट‍िक के बर्तनों में रखा गया खाना आसानी से बीपीए रसायन को सोख लेता है
शोधकर्ताओं ने यह शोध खरगोशों पर किया है
अध्ययन के दौरान कुछ खरगोशों को प्रेगनेंसी के दौरान बीपीए रसायन प्लास्ट‍िक बोतलों  के खाने व पानी का सेवन करवाया उन खरगोशों के बच्चों में जन्म लेने के 7 दिनों बाद से ही पेट से संबंध‍ित परेशानियां उत्पन्न होने लगीं
शोधकर्ताओं के अध्ययन के निष्कर्ष के अनुसार बीपीए रसायन के संपर्क में आने वाले बच्चों में गट बैक्टीरियल डिसबायोसिस विकसित हो जाता है, जिसके कारण उनको पेट से सबंधित कई प्रकार की समस्याओ का सामना करना पड़ता है

 

pregnancy ke dauran plastic bottle se paani pina surkshait hai nahin

Yadi aap pregnancy ke dauran pla‍stic ki bottle se paani piti hain, to Kya aap Iske nukasan ke bare me janati hai ki Yah paani Aapke aur Aapke shishu dono ke lea kitana nukasanadayak hai
hal hi me hue ek adhyadn me Yah dava kiya gaya hai ki garbhavastha ke dauran lo kvaliti ya BPA yukt plastic bottle se paani pine vali garbhavti mahilaon se janm lene vale shishuo ko aage Life me Pet se snbndhi‍t bimariyan hone ki snbhaonea adhik rahti hain
plastic ki bottle me paaya jane vale BPA Chemical Pet me paaye jane vale Acche aur bure jivanuon Ka santulan bigad deta hai Isse livar me dard aur Pet me sujan aa Sakti hai aur Isse garbhavti mahilaon ko bhukha lgana kam ho jati hai
Yah adhyadn amerikan sositei for Microbayoloji ke shodhkartaon ne kiya hai.
shodhkartaon ke anusar Yah Chemical itana ghatak hai ki garbh me pal raha shishu bhi BPA Chemical ke snpark me aa skata hain aur janm ke bad bhi Maa ke dudh ke Dwara bhi unamen khatranak Chemical ja skata hain. in khatranak Chemicalon ke snpark me aaye shishu ko aage ki Life me Pet se snbndh‍it Pareshaniyan adhik rahti hai
aaiye jane BPA Chemical Kya hai BPA Ka pura Name hai bisfenol E Yah ek tarh Ka audyogik rasayan hai, is Chemical Ka Prayog 1960 se plastic banane ke lea kiya jata hai.
BPA Chemical plasta‍ik ke bane kai kntaenaron aur botalon me paaya jata hai. khaskar sadte aur kharab kvaliti vale bottles me isKa Prayog Jyada kiya hai shodhkartaon ne dava kiya hai is tarh ke plastic ke bartanon me rakha gaya Khana aasani se BPA Chemical ko sokha leta hai
shodhkartaon ne Yah shodh khargoshon par kiya hai
adhyadn ke dauran kuch khargoshon ko pregnancy ke dauran bipie Chemical plastic bottle ke Khane aur paani Ka Seven karvaya un khargoshon ke bachhchon me janm lene ke 7 dino bad se hi Pet se snbndh‍it Pareshaniyan utpann hone lagin
shodhkartaon ke adhyadn ke nishakarsha ke anusar bipie Chemical ke snpark me aane vale bachhchon me gat baiktiriyal disabayosis vikasit ho jata hai, jisake Karan unako Pet se sabndhit kai prKar ki Probles Ka samana Karna pdata hai

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *