प्रेगनेंसी के दौरान कौन कौन खतरों से सावधान रहना जरुरी है pregnancy ke dauran kaun kaun khatron se savadhan rahna jaruri hai

प्रेगनेंसी के दौरान कौन कौन खतरों से सावधान रहना जरुरी है

pregnancy
pregnancy


प्रेगनेंसी के दौरान बहुत से उतार-चढ़ाव आते हैं, इस समय महिलाओं को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है जैसे – तनाव, वजन बढ़ना, सिर में दर्द होना, मॉर्निंग सिकनेस, भूख न लगना, अनिद्रा आदि परन्तु गर्भावस्था में इस समस्‍याओं का होना स्वभाविक माना गया है इनके आलावा नौ महीनों में कुछ खतरनाक समस्याएं भी हो सकती हैं जिनके बारे में प्रेग्नेंट महिला को पता होना जरूरी है, जिससे माँ और शिशु दोनों ही इन खतरो से बच सके है  आइये जानें इन खतरों के बारे में-
1. प्रेगनेंसी में अधिक पानी आना- कई बार ऐसा लगता है जैसे कि यूरीन की जगह पानी आ रहा है, इसका कारण यूटेरस में सूजन  या ब्लैडर का भारीपन हो सकता है इसके आलावा यदि पानी अधिक समय तक निकलता जा रहा है तो कारण amniotic फ्लूइड की थैली लीक होना या फटना जाना भी हो सकता है ऐसी स्थिति में आपको तुरंत अस्पताल जाना चाहिए वरना माँ और शिशु दोनों की जान को  खतरा हो सकता है
2. प्रेगनेंसी के दौरान बार-बार उल्‍टीयां होना- प्रेगनेंसी में उल्टी होना आम बात है परन्तु बार- बार उल्टियों का आना भी सही नहीं है डॉक्टर्स के अनुसार ज्यादा उल्टियाँ होने से आप कुपोषण के शिकार हो सकती हैं और इससे आपके शरीर में पानी की कमी भी आ सकती है पानी कमी माँ और शिशु दोनों के लिए परेशानियां खडी कर सकती हैं इसलिए ऐसी स्थितियों में आपको डॉक्‍टर के ज्यादा सम्पर्क में रहना चाहिए क्योकि डॉक्टर आपको इस स्थिति से उभर के लिए उपयुक्त आहार लेने के बारे में बता सकता है जो आपके और होने वाले शिशु दोनों के स्वास्थ्य के लिए जरुरी है
3. प्रेगनेंसी  में फ्लू होने का ज्यादा खतरा – प्रेग्नेंसी के दौरान  शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र
कमजोर हो जाती है जिससे
प्रेग्नेंट महिलाओं में फ्लू का खतरा सामान्य लोगों की तुलना में अधिक रहता है फ्लू का अर्थ है सांसो से द्वारा एक दुसरे में फ़ैलने वाली सर्दी जुखाम फ्लू के सामान्य लक्षण- गले में दर्द होना , खांसी और सर्दी, कमज़ोरी, नाक का बहना, उल्टियां आना आदि
4. प्रेगनेंसी में खून की कमी होना- प्रेगनेंसी के दौरान बहुत सी महिलाओ में खून की कमी हो जाती है इस समय खून की कमी हो जाना बेहद खतरनाक है क्योकि इस समय आपके शरीर को ज्यादा खून की आवश्यकता होती है ऐसी स्थिति में को लापरवाही से लेना मां और बच्चे दोनों के लिए परेशानी का कारण बन सकता है.
5. बेबी किक- यदि आपको बेबी किक महसूस नहीं हो रहे है तो इसका अर्थ है कि उसे प्लेसेन्टा से पर्याप्त मात्रा में आक्सीजन नहीं मिल रहा है बेबी किक को गिनकर भी आप शिशु की गति का अंदाज़ा लगा सकते हैं, लेकिन ऐसी कोई निश्चित गिनती नहीं है कि शिशु  को कितनी किक करना चाहिए परन्तु आपको सिर्फ शिशु की हलचल का ध्यान रखना चाहिए शिशु की हलचल में कोई अजीब परिवर्तन हो तो आपको चिकित्‍सक की सलाह लेना ज़रूरी लेनी चाहिए
6. ब्लीडिंग होना – प्रेगनेंसी के दौरान ब्लीडिंग होने से मिसकैरेज की समस्या हो सकती है

 

pregnancy ke dauran kaun kaun khatron se savadhan rahna jaruri hai

pregnancy ke dauran bahut se utar-chadhav aate hain, is Samay mahilaon ko kai tarh ki Pareshaniyon Ka samana Karna padta hai jaise – tanav, wajan (Weight) badhna, sir me dard Hona, morning sikanes, bhukha n lgana, anidra aadi parntu garbhavastha me is smas‍yaon Ka Hona svabhavik mana gaya hai inake aalava nau mahino me kuch khatranak Problems bhi ho Sakti hain jinake bare me pregnent mahila ko pata Hona jaruri hai, Jisse man aur shishu dono hi in khatro se bachh sake hai aaiye janen in khatron ke bare me-
1. pregnancy me adhik paani aana- kai bar Aesa lgata hai jaise ki Yourin ki jgah paani aa raha hai, isKa Karan Youtaeras me sujan ya blaidar Ka weightipan ho skata hai Iske aalava Yadi paani adhik Samay tak nikalta ja raha hai to Karan amniotic fluid ki Bag lik Hona ya ftana jana bhi ho skata hai aesi sthiti me Aapko turnt aspatal jana chahiey vrana man aur shishu dono ki jan ko khatra ho skata hai
2. pregnancy ke dauran bar-bar ul‍tiyan Hona- pregnancy me ulti Hona aam Baat hai parntu bar- bar ultaiyon Ka aana bhi sahi nahin hai doctors ke anusar Jyada ultaiyan hone se aap kuposhan ke shiKar ho Sakti hain aur Isse Aapke sharir me paani ki kami bhi aa Sakti hai paani kami man aur shishu dono ke lea Pareshaniyan khaD kar Sakti hain islea aesi sthitiyon me Aapko dok‍tar ke Jyada sampark me rahna chahiey kyoki doctor Aapko is sthiti se ubhar ke lea upayukt aahar lene ke bare me bata skata hai jo Aapke aur hone vale shishu dono ke svasthy ke lea jaruri hai
3. pregnancy me flu hone Ka Jyada khatra -pregnancy ke dauran sharir Ka pratiraksha tntr kamjor ho jati hai Jisse
pregnenta mahilaon me flu Ka khatra samany logon ki tulana me adhik rahta hai flu Ka arth hai sanso se Dwara ek duSire me pailane vali Sirdi jukham flu ke samany lakshan- gale me dard Hona , khansi aur Sirdi, kamjori, nak Ka bahna, ultaiyan aana aadi
4. pregnancy me khaun ki kami Hona- pregnancy ke dauran bahut si mahilao me khaun ki kami ho jati hai is Samay khaun ki kami ho jana behad khatranak hai kyoki is Samay Aapke sharir ko Jyada khaun ki aavashykata hoti hai aesi sthiti me ko laparvahi se lena Maa aur bachhche dono ke lea Pareshani Ka Karan ban skata hai.
5. baby kick- Yadi Aapko baby kick mahsus nahin ho rahe hai to isKa arth hai ki use plecenta se paryapt matra me aaksijan nahin mil raha hai baby kick ko ginkar bhi aap shishu ki gati Ka andaja laga sakte hain, lekin aesi koi nishchit ginati nahin hai ki shishu ko kitani kick Karna chahiey parntu Aapko sirf shishu ki halchal Ka dhyan rkhana chahiey shishu ki halchal me koi ajib parivartan ho to Aapko chikit‍sak ki salah lena Jaruri leni chahiey
6. bleeding Hona – preganensi ke dauran bleeding hone se misakairej ki Problem ho Sakti hai

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *