Pregnancy के दौरान गोद भराई की रस्म कब और क्यों की जाती है Pregnancy ke dauran god bharai ki rasm kab aur kyon ki jati hai

Pregnancy के दौरान गोद भराई की रस्म कब और क्यों की जाती है

गर्भावस्था में की जाने वाली इस रस्म में आने वाले शिशु का स्वागत और गर्भवती महिला को माँ बनने की बधाई व आशीर्वाद दिया जाता है
गोद भराई की रस्म अलग-अलग जाति-समुदायों में अलग-अलग समय पर मनाई जाती है कुछ लोग गर्भावस्था के 7 महीने पुरे होने पर ये रस्म करते है क्योकि वे मानते है कि 7 महीने बाद शिशु सुरक्षित है और कुछ 8 महीने पुरे होने पर ये रस्म करते है इनके आलावा कुछ जाति-समुदायों में ये रस्म नहीं की जाती है वे शिशु के जन्म के बाद ही उसके स्वागत रस्म मनाते है
इस रस्म में गर्भवती महिला को सुन्दर कपड़ो व गहनों से सजाया जाता है उसे फूलो के गहने भी पहनाये जाते है इस रस्म सिर्फ महिलाएं भाग लेती है वे गर्भवती महिला को माँ बनने की बधाई और गिफ्ट देती है और शिशु को आशीर्वाद देती है और इस रस्म में नाचने-गाने का भी प्रोग्राम होता है

Pregnancy ke dauran god bharai ki rasm kab aur kyon ki jati hai

garbhavastha me ki jane vali is rasm me aane vale shishu Ka svagat aur garbhavti mahila ko man Banne ki badhai v aashirvad diya jata hai
god bharai ki rasm alag-alag jati-samudayon me alag-alag Samay par manai jati hai kuch log garbhavastha ke 7 mahine pure hone par ye rasm karte hai kyoki ve manate hai ki 7 mahine bad shishu surakshait hai aur kuch 8 mahine pure hone par ye rasm karte hai inake aalava kuch jati-samudayon me ye rasm nahin ki jati hai ve shishu ke janm ke bad hi Uske svagat rasm manate hai
is rasm me garbhavti mahila ko sundar cupdo v gahno se sajaya jata hai use fulo ke gahne bhi pahnaye jate hai is rasm sirf mahilaen bhag leti hai ve garbhavti mahila ko man Banne ki badhai aur Gift deti hai aur shishu ko aashirvad deti hai aur is rasm me nachane-gane Ka bhi program Hota hai

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *