क्या शिशु माँ के गर्भ में ही सीखने लगता है Kya shishu maa ke garbh me hi sikhane lgata hai

क्या शिशु माँ के गर्भ में ही सीखने लगता है

महाभारत का वो क़िस्सा तो आपने सुना ही होगा कि अर्जुन के पुत्र अभिमन्यु ने चक्रव्यूह में घुसने की कला मां सुभद्रा के गर्भ में ही सीखी थी
एक दिन सुभद्रा अर्जुन से चक्रव्यूह भेदन के बारे में जानना चाहा इस कारण अर्जुन ने जब सुभद्रा को चक्रव्यूह भेदन के बारे में बताने लगे परन्तु जब अर्जुन ने सुभद्रा को चक्रव्यूह भेदकर बाहर निकलने का तरीक़ा बता रहे थे तब  सुभद्रा को नींद आ गयी इसलिए अभिमन्यु चक्रव्यूह में घुसने का तरीक़ा तो सीख गये परन्तु बाहर निकलने का तरीका नहीं सिख पाये इसी कारण अभिमन्यु की मौत चक्रव्यूह में घिरकर हुई थी
बहुत से लोग इस पौराणिक क़िस्से पर विश्वास करते हैं  पर कुछ लोग इसे काल्पनिक कथा मानते  परन्तु हर इन्सान के  मस्तिष्क में यह सवाल जरुर आता है कि

क्या वाक़ई में शिशु माँ के गर्भ में सीखना शुरू कर देता है


वैज्ञानिक इस सवाल का जवाब हां में देते हैं वैज्ञानिकों का मानना है कि जिस प्रकार हमारे खान-पान और वातावरण का गर्भ में पल रहे पर प्रभाव पड़ता है जैसे पोष्टिक आहार लेने वाली महिला का जन्म लेने वाला बच्चा स्वस्थ और तन्दुरुस्त होता है वैसे वातावरण का भी गर्भस्थ शिशु पर प्रभाव डालता है जैसे अधिक गर्मी वाले स्थानों पर जन्म लेने वाले शिशु का रंग काला होता है और अधिक सर्दी वाले स्थानों पर जन्म लेने वाले शिशु गोरे होते है उसी प्रकार अन्य चीजे भी प्रभाव डालती है जैसे स्वाद, आवाज़, जुबान आदि चीज़ें सीखने की बुनियाद माँ के गर्भ में ही पड़ जाती है
इसी कारण बड़े-बुजुर्ग गर्भवती महिलाओं को नसीहतें देते है कि अच्छा खाओ, अच्छा पियो, प्रेरणादायिक किताबे पढो गलत चीजो से दूर रहो, ऐसा न करो, वैसा न करो वरना बच्चे पर बुरा असर पड़ेगा
उत्तरी आयरलैंड की राजधानी बेलफ़ास्ट की यूनिवर्सिटी में पीटर हेपर ने 33 गर्भवती महिलाओं पर शोध किया इस शोध में यह बात सामने आई कि जो गर्भवती महिलाये गर्भावस्था के दौरान लहसुन खाती थीं उनके बच्चो को लहसुन ख़ूब पसंद किया और जो लहसुन नहीं खाती थीं उनके बच्चो ने लहसुन खाना पसंद नहीं किया इसी प्रकार शिशु मां के गर्भ में रहते हुए बहुत सी बातें सीखता है

Kya shishu maa ke garbh me hi sikhane lgata hai

mahaIndia Ka vo kissa to Aapne suna hi Hoga ki arjun ke putr abhimanyu ne chakravYouh me Ghusane ki kala Maa subhadra ke garbh me hi sikhai thi
ek din subhadra arjun se chakravYouh bhedan ke bare me Janna chaha is Karan arjun ne jab subhadra ko chakravYouh bhedan ke bare me batane lage parntu jab arjun ne subhadra ko chakravYouh bhedkar bahar nikalne Ka tarika bata rahe the tab subhadra ko nind aa gayi islea abhimanyu chakravYouh me Ghusane Ka tarika to sikha gaye parntu bahar nikalne Ka tariKa nahin sikha paaye isi Karan abhimanyu ki maut chakravYouh me Ghirkar hui thi
bahut se log is pauranik kisse par vishvas karte hain par kuch log ise Kalpanik katha manate parntu har insan ke mastishak me Yah saval jarur aata hai ki

Kya vaki me shishu man ke garbh me sikhana shuru kar deta hai

vaigyanik is saval Ka javab han me dete hain vaigyanikon Ka manada hai ki jis prKar Humare Khan-paan aur vatavarn Ka garbh me pal rahe par prabhav pdata hai jaise poshataik aahar lene vali mahila Ka janm lene vala Baccha Swasth aur tandurust Hota hai vaise vatavarn Ka bhi garbhasth shishu par prabhav daalata hai jaise adhik garmi vale sthano par janm lene vale shishu Ka Color Kala Hota hai aur adhik Sirdi vale sthano par janm lene vale shishu gore hote hai usi prKar any chije bhi prabhav daalati hai jaise Swad, aavaj, juban aadi chijen sikhane ki buniyad man ke garbh me hi pad jati hai
isi Karan bade-bujurg garbhavti mahilaon ko nasihaten dete hai ki Accha khao, Accha piyo, preranadayik kitabe padho galt chijo se dur raho, Aesa n karo, vaisa n karo vrana bachhche par bura Asar padega
Uttari aayarlaind ki rajadhani belafasta ki Younivarsiti me pitar hepar ne 33 garbhavti mahilaon par shodh kiya is shodh me Yah Baat samane I ki jo garbhavti mahilaye garbhavastha ke dauran lahsun khati thin unake bachhcho ko lahsun khaub pasnd kiya aur jo lahsun nahin khati thin unake bachhcho ne lahsun Khana pasnd nahin kiya isi prKar shishu Maa ke garbh me rahte hue bahut si Baaten sikhata hai

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *