जुडवाँ बच्चे होने के कारण judva bachche hone ke karan

जुडवाँ बच्चे होने के कारण

twins baby
twins baby

आज हम जानेगे की जुड़वाँ बच्चे क्यों होते है कई बार हमारे दिमाग में यह सवाल जरुर आता है कि क्यों कुछ महिलाओ को जुड़वाँ बच्चे होते है इतना नहीं आजकल तो एक साथ 3 बच्चे ,4 बच्चे या इनसे ज्यादा बच्चे भी एक साथ हो रहे है आज हम इसी बात का कारण जानेगे
एक साथ 2 या दो से अधिक बच्चे होने को मल्टिपल प्रेगनेंसी कहा जाता है मल्टिपल प्रेगनेंसी अर्थ किसी महिला के गर्भ में एक ज्यादा बच्चे होना है जुड़वाँ बच्चे दो तरह के होते है
1.आइडेंटिकल ट्विन्स
एक एग से पैदा होने वाले जुड़वाँ बच्चे आइडेंटिकल ट्विन्स कहलाते हैं। ऐसा तब होता है जब एक एग एक स्पर्म से फर्टिलाइज होता है बाद में फर्टिलाइज्ड एग दो या दो से अधिक हिस्सों में बंट जाता है। इसे काफी रेयर माना जाता है। इन बच्चों का चेहरा और स्वभाव बिल्कुल एक जैसा होता है।
2. फ्रेटरनल ट्विन्स 
जो जुड़वाँ बच्चे अलग-अलग एग से पैदा होते है वे फ्रेटरनल ट्विन्स कहलाते हैं। ऐसा तब होता है जब दो या ज्यादा एग अलग-अलग स्पर्म से फर्टिलाइज होते हैं।
अगर महिला के परिवार में पहले से ही फ्रेटरनल ट्विन्स हैं तो ट्विन्स होने की संभावना बढ़ जाती है। ज्यादातर जुड़वाँ बच्चे इसी तरह के होते हैं। फ्रेटरनल ट्विन्स एक जैसे भी हो सकते हैं और अलग-अलग तरह के भी
जुड़वाँ बच्चे होने के बहुत से कारण है उनमे से 6 मुख्य कारण –
जुड़वाँ बच्चे
जुड़वाँ बच्चे

1.फर्टिलिटी ट्रीटमेंट-
जो महिलाएं IVF का सहारा लेती है या फर्टिलिटी दवाइयां खाती है उनमे ट्विन्स होने चांस बढ़ जाते है क्योकि IVF में चांस बढ़ाने के लिए यूट्रस में एक से ज्यादा फर्टिलाइज एग रखे जाते है और फर्टिलिटी दवाइयों से भी ज्यादा एग बनते है
2.फैमिली हिस्ट्री 
अगर महिला के परिवार में (माँ ,बहिन ,दादी ) में पहले से ट्विन्स है तो उसको ट्विन्स होने की संभावना बढ़ जाती है क्योंकि महिलाये एग प्रोडूसर होती है इसलिए इसलिए उनके परिवार की माँ और बहिनों के जींस उनमे ट्रासफर होते है
3.लाइफस्टाइल
नॉनवेज और हाई फैट खाने वाली या मोटापे से ग्रस्त महिलाओ में ट्विन्स होने के चांस ज्यादा होते है

 4.उम्र

30 से 40 साल की उम्र में माँ बनने वाली महिलाओ में ट्विन्स होने के चांस ज्यादा होते है ज्यादा उम्र में ओवेरी के फंक्शन में बदलाव आ जाता है
5.बच्चो कि संख्या
जिन महिलाओ के पहले से ज्यादा बच्चे है या पहले ट्विन्स है उनको ट्विन्स होने की संभावना बढ़ जाती है क्योकि इन महिलाओ में एग प्रोडूसर की क्षमता बढ़ जाती है
6.प्लेस
दुनिया के दुसरे इलाको के बजाय वेस्ट अफ्रीकन कंट्रीज में ट्विन्स होने के ज्यादा मामले सामने आते है क्योकि इसका कारण यहाँ का वातावरण और खानपान है
जो महिलाएं ट्विन्स पैदा करती है वे सामान्य महिलाओ के बजाय जीती है
ज्यादा हाईट वाली महिलाओ में ट्विन्स के चांस अधिक होते है
डेयरी उत्पाद ज्यादा खाने वाली महिलाओ में ट्विन्स होने के चांस ज्यादा होते है
जुड़वाँ बच्चे अपनी बॉडी के बजाय दुसरे बच्चे की बॉडी को ज्यादा टच करते है
 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *