गर्भावस्था में मॉर्निंग सिकनेस की समस्या garbhavastha me morning sickness ki Problem

  गर्भावस्था में मॉर्निंग सिकनेस की समस्या

morning sickness during pregnancy
morning sickness during pregnancy


अधिकांश मामलों में देखा गया है कि गर्भवती महिला को गर्भावस्था के पहले तीन महीने मार्निंग सिकनेस की समस्या ज्यादा रहती है कुछ गर्भवती महिलाओं को उल्टी और मतली की समस्या नार्मल से ज्यादा रहती है जिससे उनको बहुत सी तकलीफे झेलनी पड़ती है
लेकिन गर्भावस्था में उल्टी और मतली के लक्षण इस बात को बताते हैं कि आपकी प्रेग्नेंसी बिलकुल स्वस्थ है। अगर किसी महिला को गर्भावस्था के दौरान उल्टी और मतली के लक्षण नहीं दिख रहे हैं तो इसका अर्थ है कि उसकी प्रेगनेंसी में जरूर कोई -ना – कोई समस्या होने की आशंका है

आखिर क्योँ होती है मॉर्निंग सिकनेस

गर्भावस्था के दौरान महिला का शरीर बहुत सारे परिवर्तनों से गुजरता है गर्भवती महिला के शरीर में होने वाले ये परिवर्तन बच्चे के बेहतर  विकास के लिए बहुत जरुरी होते हैं।गर्भवती महिला के शरीर में ये बदलाव प्रेग्नेंसी से लेकर प्रसव के कुछ समय बाद तक होते रहते हैं। इन सारे बदलावों में सबसे प्रमुख बदलाव होता है महिला के शरीर में प्रेग्नेंसी हार्मोन का बनना ये हॉर्मोन गर्भावस्था के शुरूआती महीनो में ज्यादा बनता है जो कि शिशु के विकास के लिए बेहद जरुरी है।
ये हॉर्मोन महिला के शरीर की मांसपेशियोँ और हड्डियोँ को लचीला बनाता है। ताकि जैसे-जैसे बच्चा गर्भ में बढे, महिला का शरीर रबर के बलून की तरह फ़ैल सके। लेकिन इस हॉर्मोन से महिला का शरीर बहुत ही प्रभावित होता है इसी कारण गर्भवती महिला को मोर्निंग सिकनेस की समस्या होती है इसे अंग्रेजी भाषा में “एसिड रेफिएक्स’’ कहते हैं
साधारणतया जब हम कुछ खाते हैं तो एसोफैगस नली में स्थित मांसपेशियां हमारे पेट में मौजूद आहार को बाहर आने से रोकती है लेकिन प्रेग्नेंसी हार्मोन के कारण एसोफैगस नली में स्थित मांसपेशियां ढीली पड़ जाती है और पेट में मौजूद आहार को प्रभावी तरीके से बाहर आने से रोक नहीं पाती है इसी कारण प्रेगनेंसी के दौरान उल्टी और मतली की समस्या ज्यादा रहती है
 

garbhavastha me morning sikanes ki Problem

adhiKansh mamalon me dekha gaya hai ki garbhavti mahila ko garbhavastha ke Pehle tin mahine marning sikanes ki Problem Jyada rahti hai kuch garbhavti mahilaon ko ulti aur mtali ki Problem normal se Jyada rahti hai Jisse unako bahut si tkalife jhelani padti hai
lekin garbhavastha me ulti aur mtali ke lakshan is Baat ko batate hain ki Aapki pregnensi bilakul Swasth hai. agar kisi mahila ko garbhavastha ke dauran ulti aur mtali ke lakshan nahin dikha rahe hain to isKa arth hai ki usaki Pregnancy me jarur koi -na – koi Problem hone ki aashnKa hai

aakhair kyon hoti hai morning sikanes

garbhavastha ke dauran mahila Ka sharir bahut sare parivartanon se gujarta hai garbhavti mahila ke sharir me hone vale ye parivartan bachhche ke behtar vikas ke lea bahut jaruri hote hain.
garbhavti mahila ke sharir me ye Badlav pregnensi se lekar prasv ke kuch Samay bad tak hote rahte hain. in sare Badlavon me Sabse pramukha Badlav Hota hai mahila ke sharir me pregnensi harmon Ka Banna ye hormon garbhavastha ke shuruaati mahino me Jyada bnata hai jo ki shishu ke vikas ke lea behad jaruri hai.ye hormon mahila ke sharir ki Maasapeshiyon aur haddiyon ko lachhila banata hai. taki jaise-jaise Baccha garbh me badhe, mahila Ka sharir rbar ke balun ki tarh pail sake. lekin is hormon se mahila Ka sharir bahut hi prabhavit Hota hai isi Karan garbhavti mahila ko morning sikanes ki Problem hoti hai ise English Language me “Sid refieks’’ kahte hain
sadharnatya jab Hum kuch khate hain to Sofaigas nali me sthit Maasapeshiyan Humare Pet me maujud aahar ko bahar aane se rokati hai lekin pregnensi harmon ke Karan Sofaigas nali me sthit Maasapeshiyan dhili pad jati hai aur Pet me maujud aahar ko prabhavi tarike se bahar aane se rok nahin paati hai isi Karan Pregnancy ke dauran ulti aur mtali ki Problem Jyada rahti hai
 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *