गर्भावस्था में एसिडिटी और छाती में जलन (हार्टबर्न) garbhavastha me acidity aur chhati me jalan (heartburn)

गर्भावस्था में एसिडिटी और छाती में जलन (हार्टबर्न)


अगर देखा जाये तो गर्भावस्था में एसिडिटी और छाती में जलन की समस्या 80 % गर्भवती महिलाओं को रहती है। गर्भावस्था के दौरान एसिडिटी और छाती में जलन शरीर में हार्मोन्स परिवतर्न के कारण होती है छाती में जलन की अनुभूति गले के निचले हिस्से से लेकर ब्रेस्टबोन के निचे तक महसूस होती है एसिडिटी गर्भावस्था के किसी भी महीने से शुरू हो सकती है परन्तु ज्यादातर एसिडिटी  और छाती में जलन की समस्या गर्भावस्था के तीसरे महीने से शुरू होती है क्योकि गर्भाशय के बढ़ने से आंतो और पेट पर दबाव पड़ता है। जिससे भोजन नली सुचारु रूप से कार्य नहीं कर पाती है और इससे हार्ट बर्न की समस्या होने लगती है इससे आपको और शिशु को कोई नुकसान नहीं होता है लेकिन असहजता और दर्द हो सकता है।

गर्भावस्था में एसिडिटी और छाती में जलन होने के कारण

1. एसिडिटी और छाती में जलन का मुख्य कारण है अधिक मात्रा में अम्लीय या अधिक खट्टा खाना जैसे अम्लीय युक्त पेय पदार्थ, सोडा युक्त पेय जल ,खट्टे फल ,मसाले दार भोजन,शराब ,कॉफी ,तैलीय व्यंजन इन सभी खाद्य पदार्थो से एसिडिटी होती है
2.गर्भावस्था के दौरान पाचनतंत्र की गति धीमी हो जाती है जिससे एसिडिटी और छाती में जलन ज्यादा होने लगती है
3. इस अवस्था में अपरा (प्लेसेंटा ) प्रोजेस्टीरोन हार्मोन का उत्पादन करती है जिससे भी हार्ट बर्न की समस्या हो सकती है
4.गर्भाश्य के बढ़ने के कारण एसिड भोजन नाली में चला जाता है और पेट अधिक भर जाता है जिस कारण एसिडिटी होती है और छाती  में जलन होने लगती है।
5. समय पर खाना नहीं खाने से शरीर के अमाश्य में उपस्थित एचसीएल (हाइड्रोक्लोरिक अम्ल ) का ph लेवल बढ़ जाता है जिससे एसिडिटी हो जाती है और छाती में जलन होने लगती है
6. भोजन चबा चबा कर न खाने से भी छाती में जलन होने लगती है
7. एक भोजन से दूसरे भोजन के बीच लम्बा अंतराल होने से भी एसिडिटी हो जाती है
8. धूम्रपान से भी एसिडिटी और छाती में जलन की समस्या बढ़ सकती है। गर्भवास्था में धूम्रपान से तरह तरह की समस्या हो सकती है सिगरेट के धुएं के संपर्क में आना आपके लिए हानि कारक हो सकता है। चाहे आप धूम्रपान ना  करती हो
गर्भावस्था में एसिडिटी और छाती में जलन कब तक बंद होती है
यह निश्चित नहीं ह  पर ज्यादातर गर्भवती महिलाओ को यह समस्या  पूरी गर्भावस्था में रह रहती है और किसी को आधी  गर्भावस्था तक ही होती है।

गर्भावस्था में एसिडिटी और सीने में जलन (हार्टबर्न) से बचने के तरिके


1
. समय पर खाना खाये आप दिन में तीन या चार बार भोजन करने के बजाए थोड़ी थोड़ी मात्रा में हर एक या डेढ़ घंटे के अंतराल से भोजन करे।
2. खाना खाने के तुरंत बाद ना सोये सीधी अवस्था बैठे व इधर उधर घूमे।
3.सोते समय तकिया जरूर लेवे इससे कंधे पेट से ऊपर रहते है  जिससे पाचन क्रिया को मदद मिलती है।
4.गर्भवती महिला को दिन में 9 से 12 गिलास पानी जरुर पीना चाहिए। आप खाद्य पदार्थ लेने की बजाय लिक्विड ज्यादा लेने की कोशिश करे
5.हरी पत्ते दार सब्जियों का सेवन करे क्योकि इनसे एसिडिटी नहीं होती है
6.सुबह ठंडे दही का सेवन करे ठंडा दही छाती की जलन को कम करता है
7.बादाम एसिडिटी की समस्या को दूर करने में बहुत ही फायदेमंद है इसलिए बादाम का सेवन करे
8. रात को सोने के तीन घंटे पहले भोजन करने की कोशिश करे

garbhavastha me acidity aur chhati me jalan (heartburn)

agar dekha jaye to garbhavastha me acidity aur chhati me jalan ki Problem 80 % garbhavti mahilaon ko rahti hai. garbhavastha ke dauran acidity aur chhati me jalan sharir me harmons parivtarn ke Karan hoti hai chhati me jalan ki anubhuti gale ke nichale hisse se lekar bRacetabon ke niche tak mahsus hoti hai acidity garbhavastha ke kisi bhi mahine se shuru ho Sakti hai parntu Jyadatar acidity aur chhati me jalan ki Problem garbhavastha ke tiSire mahine se shuru hoti hai kyoki garbhashay ke bdhne se aanto aur Pet par dabav pdata hai. Jisse bhojan nali sucharu rup se Kary nahin kar paati hai aur Isse harta barn ki Problem hone lgati hai Isse Aapko aur shishu ko koi nukasan nahin Hota hai lekin asahjata aur dard ho skata hai.

garbhavastha me acidity aur chhati me jalan hone ke Karan

1. acidity aur chhati me jalan Ka mukhay Karan hai adhik matra me amliy ya adhik khatta Khana jaise amliy yukt pey padarth, sodaa yukt pey jal ,khattae phal ,masale dar bhojan,sharab ,coffee ,Oily vynjan in sabhi khady padartho se acidity hoti hai
2.garbhavastha ke dauran paachantntr ki gati dhimi ho jati hai Jisse acidity aur chhati me jalan Jyada hone lgati hai
3. is avastha me upra (placenta ) pEverydayestiron harmon Ka utpaadan karti hai Jisse bhi harta barn ki Problem ho Sakti hai
4.garbhashy ke bdhne ke Karan Sid bhojan nali me chala jata hai aur Pet adhik bhar jata hai jis Karan acidity hoti hai aur chhati me jalan hone lgati hai.
5. Samay par Khana nahin Khane se sharir ke amashy me upasthit Hsiel (haidroklorik aml ) Ka ph leval bdh jata hai Jisse acidity ho jati hai aur chhati me jalan hone lgati hai
6. bhojan chaba chaba kar n Khane se bhi chhati me jalan hone lgati hai
7. ek bhojan se Dusre bhojan ke bich lamba antaral hone se bhi acidity ho jati hai
8. dhumrapan se bhi acidity aur chhati me jalan ki Problem bdh Sakti hai. garbhavastha me dhumrapan se tarh tarh ki Problem ho Sakti hai sigareta ke dhuen ke snpark me aana Aapke lea hani Karak ho skata hai. chahe aap dhumrapan na karti ho
garbhavastha me acidity aur chhati me jalan kab tak Band hoti hai
Yah nishchit nahin h par Jyadatar garbhavti mahilao ko Yah Problem puri garbhavastha me rah rahti hai aur kisi ko aadhi garbhavastha tak hi hoti hai.
garbhavastha me acidity aur Scenee me jalan (heartburn) se bchane ke tarike
1. Samay par Khana khaye aap din me tin ya char bar bhojan karne ke bajae thodi thodi matra me har ek ya dedh Hour ke antaral se bhojan kare.
2. Khana Khane ke turnt bad na soye sidhi avastha baithe v idhar udhar Ghume.
3.sote Samay tkiya jarur leve Isse Shoulders(kandhe) Pet se upar rahte hai Jisse paachan kriya ko help milati hai.
4.garbhavti mahila ko din me 9 se 12 glass paani jarur pina chahiey. aap khady padarth lene ki bajay likvid Jyada lene ki Try kare
5.hari patte dar sabjiyon Ka Seven kare kyoki inase acidity nahin hoti hai
6.subah Thande dahi Ka Seven kare Thanda dahi chhati ki jalan ko kam karta hai
7.Badam acidity ki Problem ko dur karne me bahut hi fayademnd hai islea Badam Ka Seven kare
8. rat ko sone ke tin Hour Pehle bhojan karne ki Try kare

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *