गर्भावस्था के दौरान वजन ज्यादा बढ़ जाने से आने वाले समस्याएं :-garbhavastha ke dauran wajan (Weight) Jyada badh jane se aane vale Problems :-

गर्भावस्था के दौरान वजन ज्यादा बढ़ जाने से आने वाले समस्याएं :-

गर्भावस्था के पहले और गर्भावस्था के लास्ट महीने के वजन में कितना डिफरेंस होना चाहिए ?

यदि गर्भावस्था के दौरान वजन बढ़ जाये तो यह आपके और आपके शिशु दोनो लिए हानिकारक साबित हो सकता है

गर्भावस्था के दौरान महिला का वजन 11 किलों से 18 किलों तक ही बढ़ना चाहिए

गर्भावस्था के दौरान ज्यादा वजन होने से गर्भपात होने की समस्या हो सकती है

गर्भावस्था के दौरान ज्यादा वजन होने के कारण नार्मल डिलीवरी में समस्या आ सकती है

गर्भावस्था के दौरान वजन बढ़ने से शिशु का वजन बढ़ सकता है जिसे डिलीवरी के समय ज्यादा ब्लीडिंग की समस्या हो सकती है

गर्भावस्था के अन्दर वजन ज्यादा बढ़ने का असर शिशु के स्वास्थ्य पर पड़ेगा शिशु का भी वजन बढेगा जो ठीक नहीं है

garbhavastha ke dauran wajan (Weight) Jyada badh jane se aane vale Problems :-

garbhavastha ke Pehle aur garbhavastha ke lasta mahine ke wajan (Weight) me kitana dipharens Hona chahiey ?
Yadi garbhavastha ke dauran wajan (Weight) bdh jaye to Yah Aapke aur Aapke shishu dono lea haniKarak sabit ho skata hai
garbhavastha ke dauran mahila Ka wajan (Weight) 11 kilon se 18 kilon tak hi bdhna chahiey
garbhavastha ke dauran Jyada wajan (Weight) hone se Garbhpat hone ki Problem ho Sakti hai
garbhavastha ke dauran Jyada wajan (Weight) hone ke Karan narmal dilivari me Problem aa Sakti hai
garbhavastha ke dauran wajan (Weight) bdhne se shishu Ka wajan (Weight) bdh skata hai jise dilivari ke Samay Jyada bliding ki Problem ho Sakti hai
garbhavastha ke andar wajan (Weight) Jyada bdhne Ka Asar shishu ke svasthy par padega shishu Ka bhi wajan (Weight) badhega jo thik nahin hai

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *