गर्भावस्था के दौरान एमनियोटिक फ्लूइड की सही मात्रा होना क्यों जरुरी है garbhavastha ke dauran Amniotic fluid ki sahi matra Hona kyon jaruri hai

गर्भावस्था के दौरान एमनियोटिक फ्लूइड की सही मात्रा होना क्यों  जरुरी है

amniotic fluid
amniotic fluid

आइये जाने एमनियोटिक फ्लूइड किसे कहते है
प्रेगनेंसी के दौरान आपका शिशु गर्भ जिस फ्लूइड की थैली के अंदर सुरक्षित रहता है उसे एमनियोटिक फ्लूइड कहते है गर्भधारण के 12 दिन बाद एमनियोटिक फ्लूइड का उत्पादन होना शुरू होता है
एमनियोटिक फ्लूइड क्यों जरुरी है
1.यह शिशु को बाहरी आघात की चोट से बचाता है
2.यह शिशु को इनफेक्शन होने से बचाता है
3.एमनियोटिक फ्लूइड गर्भ में शिशु के आस-पास एक समान तापमान बनाये रखता है
4.यह शिशु के फेफड़ों और पाचन तंत्र को विकसित होने में मदद करता है।
5.शिशु को भोजन भी एमनियोटिक फ्लूइड के माध्यम से ही मिलता है
गर्भावस्था के दौरान शिशु एमनियोटिक फ्लूइड को निगलता रहता है और पेशाब के द्वारा बाहर निकलता है, इसप्रकार आपका शिशु अपने आसपास एमनियोटिक फ्लूइड की मात्रा को नियंत्रित करता रहता है
* गर्भ में एमनियोटिक फ्लूइड की मात्रा कितनी होनी चाहिए?
तीसरी तिमाही के शुरू में एमनियोटिक फ्लूइड की मात्रा ज्यादा बढ़ती है, और 37 सप्ताह के तक चरम सीमा पर पहुंच जाता है इस समय यह द्रव 800 से 1000 मि.ली. तक होना चाहिये इसके बाद, बेबी  के जन्म तक यह धीरे-धीरे कम होना शुरु हो जाता है
परन्तु यदि इस समय एमनियोटिक फ्लूइड की मात्रा 500 मी.ली. से कम है तो इसका अर्थ है कि एमनियोटिक फ्लूइड  की कमी है जो शिशु के लिए घातक हो सकती है
*एमनियोटिक फ्लूइड कम के प्रभाव –
1.यदि शिशु प्रेगनेंसी की अवधि के अनुसार छोटा लगे तो इसका कारण एमनियोटिक फ्लूइड कम है।
2.एमनियोटिक फ्लूइड की कमी से हाई ब्लड प्रेशर की समस्या भी हो सकती है
3.इससे समय से पहले डिलीवरी होने संभावना रहती है
एमनियोटिक फ्लूइड कम की जानकारी अल्ट्रासाउंड पता  चल जाती है

garbhavastha ke dauran Amniotic fluid ki sahi matra Hona kyon jaruri hai

garbhavastha ke dauran garbhavastha ke dauran amniotic fluid ki sahi matra Hona kyon jaruri hai aaiye jane amniotic fluid kise kahte hai pregnancy ke dauran aapKa shishu garbh jis fluid ki Bag ke andar surakshait rahta hai use amniotic fluid kahte hai garbhadharan ke 12 din bad amniotic fluid Ka utpaadan Hona shuru Hota hai amniotic fluid kyon jaruri hai

1.Yah shishu ko bahari aaghat ki chota se bachhata hai

2.Yah shishu ko inafekshan hone se bachhata hai 3.amniotic fluid garbh me shishu ke aas-pass ek samaan Temperature banaye rkhata hai

4.Yah shishu ke fephado aur paachan tntr ko vikasit hone me help karta hai.

5.shishu ko bhojan bhi amniotic fluid ke madhyam se hi milata hai

garbhavastha ke dauran shishu amniotic fluid ko nigalta rahta hai aur peshab ke Dwara bahar nikalta hai, isaprKar aapKa shishu Apne aaspass amniotic fluid ki matra ko niyntrit karta rahta hai

* garbh me amniotic fluid ki matra kitani honi chahiey?

tiSiri timahi ke shuru me amniotic fluid ki matra Jyada badhti hai, aur 37 saptah ke tak charm sima par pahunch jata hai is Samay Yah drav 800 se 1000 mi.li. tak Hona chahiye Iske bad, bebi ke janm tak Yah dhire-dhire kam Hona shuru ho jata hai parntu Yadi is Samay amniotic fluid ki matra 500 mi.li. se kam hai to isKa arth hai ki amniotic fluid ki kami hai jo shishu ke lea ghatak ho Sakti hai

*amniotic fluid kam ke prabhav –

1.Yadi shishu pregnancy ki avadhi ke anusar chhota lage to isKa Karan Mniyotaik fluid kam hai. 2.amniotick fluid ki kami se hai blad preshar ki Problem bhi ho Sakti hai

3.Isse Samay se Pehle dilivari hone snbhaonea rahti hai

amniotic fluid kam ki janKari ultrasound pata chal jati hai

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *