garbhavastha ke dauran amniotic fluid kam hone ke Kya Karan hai गर्भावस्था के दौरान एमनियोटिक फ्लूइड कम होने के क्या कारण है

गर्भावस्था के दौरान एमनियोटिक फ्लूइड कम होने के क्या कारण है –

amniotic fluid
amniotic fluid


आइये जाने एमनियोटिक फ्लूइड के स्तर में कमी होने की वजह क्या है प्रेगनेंसी के नॉवे महीने के लास्ट में एमनियोटिक फ्लूइड की कमी होना आम बात है, और यदि डिलीवरी की डेट निकल जाये और प्रसव पीड़ा शुरू ना हो तो भी इसकी कमी हो सकती है जोकि स्वभाविक है  परन्तु कुछ कारणों से गर्भावस्था के दौरान भी एमनियोटिक फ्लूइड कमी हो जाती है  जो शिशु के लिए बहुत ज्यादा घातक है आइये इन कारणों के बारे में –

1. गर्भ में शिशु का स्वास्थ्य ठीक नहीं होना – यदि शिशु को गुर्दों या दिल से संबंधित कोई प्रॉब्लम होती है या फिर उसमें कोई गुणसूत्रीय असामान्यता है तो वह एमनियोटिक फ्लूइड निगल भी नहीं पाता है पेशाब के द्वारा बाहर भी नहीं निकाल पाता है जिसे तो वह एमनियोटिक फ्लूइड का स्तर कम हो जाता है और शिशु का विकास भी सही तरीके से नहीं हो पाता है
2.प्लेसेंटा का सही तरीके से कम नहीं करना – यदि गर्भवती महिला को प्रीक्लेम्पसिया, हाई ब्लड प्रेशर और मधुमेह जैसी कोई प्रॉब्लम है तो इस स्थिति में प्लेसेंटा सही तरीके से काम नहीं कर पाती है जिससे शिशु का विकास सही तरीके से नहीं हो पाता और एमनियोटिक फ्लूइड की मात्रा में भी कमी आ जाती है
3. प्रेगनेंसी के दौरान ली जाने वाली कुछ दवाइयाँ भी एमनियोटिक फ्लूइड के स्तर को प्रभावित कर सकती है जैसे हाई ब्लड प्रेशर की दवाइयाँ, इसलिए प्रेगनेंसी के दौरान डॉक्टर की सलाह के बिना कोई भी दवा ना खाये
4. गर्भ में एक जैसे दिखने वाले ट्विन्स बेबी का होना भी इसके स्तर को प्रभावित कर सकता हैएक जैसे दिखने वाले ट्विन्स बेबी एक ही अपरा से जुड़े हुये होते हैं, ऐसा तब होता है जब दोनों शिशुओ में से एक शिशु को अपरा के द्वारा ज्यादा खून मिलता है तो वह शिशु एमनियोटिक फ्लूइड को ज्यादा मात्रा में निगलता है और दुसरे शिशु को पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल पाता है जिससे एमनियोटिक फ्लूइड  की मात्रा का स्तर कम हो जाता है
5. एमनियोटिक फ्लूइड की थैली का लीक होना जाना जिससे धीरे-धीरे फ्लूइड निकलना शुरू हो जाता है- यदि एमनियोटिक फ्लूइड की थैली फट जाती है, तो पानी एक साथ तेज बहाव के साथ निकल जाता है ऐसी स्थिति में तुरंत हॉस्पिटल जाना चाहिए परन्तु कई बार एमनियोटिक फ्लूइड की थैली लीक हो जाती जिससे धीरे-धीरे फ्लूइड निकलना शुरू हो जाता है ऐसी स्थिति आपको पता नहीं चल पाता है कि पानी निकल रहा है या फिर गलती से पेशाब का रिसाव हो गया है अल्ट्रासाउंड से एमनियोटिक फ्लूइड की मात्रा की जाँच करवाते रहना चाहिए
एमनियोटिक फ्लूइड की कम आपके लिए चिंताजनक हो सकती है इसकी कमी को दूर करना आपके हाथ में नहीं है परन्तु इस स्थिति में आप खूब पानी पिये, पौष्टिक आहार का सेवन करे अच्छी नींद ले, पर्याप्त आराम करे और चिंता तो बिलकुल ना करे चिंता करने से आपकी परेशानी बढ़ सकती है और समय-समय पर डॉक्टर चेक अप करवाती रहे खुश रहे

garbhavastha ke dauran amniotic fluid kam hone ke Kya Karan –

aaiye jane amniotic fluid ke star me kami hone ki vjah Kya hai pregnancy ke nove mahine ke lasta me amniotic fluid ki kami Hona aam Baat hai, aur Yadi delivery ki date nikal jaye aur prasv pida shuru na ho to bhi isaki kami ho Sakti hai joki svabhavik hai parntu kuch Karanon se garbhavastha ke dauran bhi amniotic fluid kami ho jati hai jo shishu ke lea bahut Jyada ghatak hai aaiye in Karanon ke bare me –
1. garbh me shishu Ka svasthy thik nahin Hona – Yadi shishu ko gurdon ya dil se snbndhit koi Problem hoti hai ya Phir Usme koi gunasutriy asamanyata hai to vah Mniyotaik fluid nigal bhi nahin paata hai peshab ke Dwara bahar bhi nahin niKal paata hai jise to vah amniotic fluid Ka star kam ho jata hai aur shishu Ka viKas bhi sahi tarike se nahin ho paata hai
2.placenta Ka sahi tarike se kam nahin Karna – Yadi garbhavti mahila ko pre-eclampsia , hai blood preshar aur madhumeh jaisi koi Problem hai to is sthiti me placenta sahi tarike se Kam nahin kar paati hai Jisse shishu Ka viKas sahi tarike se nahin ho paata aur amniotic fluid ki matra me bhi kami aa jati hai
3. pregnancy ke dauran li jane vali kuch dawaiyan bhi amniotic fluid ke star ko prabhavit kar Sakti hai jaise hai blood preshar ki dawaiyan, islea pregnancy ke dauran doctor ki salah ke bina koi bhi dava na khaye
4. garbh me ek jaise dikhane vale twins baby Ka Hona bhi Iske star ko prabhavit kar skata hai- ek jaise dikhane vale twins baby ek hi upra se jude huye hote hain, Aesa tab Hota hai jab dono shishuo me se ek shishu ko upra ke Dwara Jyada khaun milata hai to vah shishu amniotic fluid ko Jyada matra me nigalta hai aur dusre shishu ko paryapt matra me nahin mil paata hai Jisse amniotic fluid ki matra Ka star kam ho jata hai
5. amniotic fluid ki Bag Ka lik Hona jana Jisse dhire-dhire fluid nikalna shuru ho jata hai- Yadi amniotic fluid ki Bag phat jati hai, to paani ek Saath tej bahav ke Saath nikal jata hai aesi sthiti me turnt hospital jana chahiey parntu kai bar amniotic fluid ki Bag lik ho jati Jisse dhire-dhire fluid nikalna shuru ho jata hai aesi sthiti Aapko pata nahin chal paata hai ki paani nikal raha hai ya Phir galti se peshab Ka risav ho gaya hai ultarasaund se amniotic fluid ki matra ki janch karvate rahna chahiey
amniotic fluid ki kam Aapke lea chintajank ho Sakti hai isaki kami ko dur Karna Aapke hath me nahin hai parntu is sthiti me aap khaub paani piye, Nutritious aahar Ka Seven kare Acchi nind le, paryapt Aaram kare aur chinta to bilakul na kare chinta karne se Aapki Pareshani badh Sakti hai aur Samay-Samay par doctor check up karvati rahe aur khaush rahe

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *