garbh me aapka shishu kitana bada hai गर्भ में आपका शिशु कितना बड़ा है

गर्भ में आपका शिशु कितना बड़ा है

हर गर्भवती महिला को यह जाने की जिज्ञासा रहती है कि गर्भ में पल रहा शिशु कितना बड़ा है और हर महीने उसका कितना विकास हो रहा है आइये जाने शिशु का विकास किस प्रकार होता है
1. एक महीने में यानि पहले 4 वीक भ्रूण गोलाकार गुच्छा के रूप में विकसित होता है इसका आकार खसखस के बीज के बराबर होता है पहले महीने में गर्भवती महिला को फोलिक एसिड का सेवन करना चाहिए क्योकि यह भ्रूण को विकृतियों से बचाता है जैसे स्पाइना बिफिडा
2. दो महिने का 8 वीक के भ्रूण का आकार राजमा के जितनी होता है वजन लगभग एक ग्राम होता है इस समय भ्रूण लगातार इधर-उधर घूमता रहता है इस महीने में शिशु की मुखाकृति धीरे-धीरे स्पष्ट होने लगती है  ऊपरी जबड़ा और नाक आकार लेने लगे हैं।
3. तीन महीने का 14 वीक के शिशु का आकार एक बड़े निम्बू के जितना हो जाता है इस समय शिशु का वजन 43 ग्राम हो जाता है इस महीने शिशु के शरीर पर बारीक बाल उगने शुरु हो जाते है ऐसा माना जाता है कि ये बाल शिशु शरीर के तापमान को नियंत्रित रखते है इस महीने में शिशु अपनी बंद पलकों को धीरे-धीरे से घुमाना शुरु कर देता है
4.चार महीने का 18 वीक के शिशु का आकार शिमला मिर्ची जितना हो जाता है और वजन 190 ग्राम हो जाता है इस महीने में आप अल्ट्रासाउंड से शिशु को पैर मारते, हिलते-डुलते या पलटी मारते देख सकती है
5.पांच महीने का 22-23 वीक के शिशु का आकार आम के जितना हो जाता है और वजन 500 ग्राम हो जाता है इस महीने में आप शिशु की हलचल महसूस करने लगेगी
6. छ: महीने का 27 वीक के शिशु का आकार फूलगोभ जितना हो जाता है और वजन 875 ग्राम हो जाता है 27 वे वीक में पहली बार शिशु अपनी आँखे खोलता है
7. सात महीने का 31 वीक के शिशु का आकार नारियल जितना हो जाता है और वजन डेड किलो हो जाता है इस वीक तक शिशु के शरीर के सभी अंगो विकास हो जाता है और भ्रूण शिशु के जैसा दिखने लगता है
8. आठ महीने का 35 वीक के शिशु का आकार खरबूजे जितना हो जाता है और वजन दो किलो हो जाता है अब शिशु लगातार बड़ा हो रहा है इसकारण आप शिशु के उलटने-पलटने और उतार-चढ़ाव महसूस करेगी जिससे आपको थोड़ा असहज भी महसूस हो सकता है
9. नों महीने का 39 वीक के शिशु का आकार तरबूज जितना व वजन तीन किलो हो जाता है और 40 वीक के शिशु का आकार कद्दू जितना व वजन साढ़े तीन किलो हो जाता है अब आपका लाडला आपकी गोद में आने के लिए बिलकुल तैयार है जन्म के समय शिशु का सिर बड़ा गर्दन बिलकुल कम टांगे छोटी और धड बड़ा होता है परन्तु यदि जन्म के समय आपके शिशु का वजन 2.5 से 2.9 किलोग्राम तक है तो भी आपका बच्चा स्वस्थ है क्योकि इंडिया में जन्म के समय शिशु का वजन कम होता है
नोट: विशेषज्ञों का मानना है जिस प्रकार जन्म के बाद हर शिशु का विकास अलग-अलग तरीके से होता है उसी प्रकार गर्भ में भी हर शिशु का विकास अलग तरीके से होता है यह भ्रूण विकास की जानकारी आपको शिशु के विकास के बारे में सामान्य अंदाजा देती है कि गर्भ में शिशु किस प्रकार होता है

garbh me aapKa shishu kitana bada hai

Har garbhavti mahila ko Yah jane ki jijYasa rahti hai ki garbh me pal raha shishu kitana bada hai aur har mahine usKa kitana viKas ho raha hai aaiye jane shishu Ka viKas kis prKar Hota hai
1. ek mahine me yani Pehle 4 vik bhrun golaKar guchchha ke rup me vikasit Hota hai isKa aaKar khaskhas ke bij ke barabar Hota hai Pehle mahine me garbhavti mahila ko folik Sid Ka Seven Karna chahiey kyoki Yah bhrun ko vikrtiyon se bachhata hai jaise spaaina bifidaa
2. do mahine Ka 8 vik ke bhrun Ka aaKar rajama ke jitani Hota hai wajan (Weight) Lagbahg ek gram Hota hai is Samay bhrun lagatar idhar-udhar Ghumata rahta hai is mahine me shishu ki mukhakrti dhire-dhire spasta hone lgati hai upari jabda aur nak aaKar lene lage hain.
3. tin mahine Ka 14 vik ke shishu Ka aaKar ek bade nimbu ke jitana ho jata hai is Samay shishu Ka wajan (Weight) 43 gram ho jata hai is mahine shishu ke sharir par barik Baal ugane shuru ho jate hai Aesa mana jata hai ki ye Baal shishu sharir ke Temperature ko niyntrit rkhate hai is mahine me shishu Apni Band palkon ko dhire-dhire se Ghumana shuru kar deta hai
4.char mahine Ka 18 vik ke shishu Ka aaKar Shimla mirchi jitana ho jata hai aur wajan (Weight) 190 gram ho jata hai is mahine me aap altarasaund se shishu ko pair marate, hilate-dulate ya palti marate dekha Sakti hai
5.paanch mahine Ka 22-23 vik ke shishu Ka aaKar aam ke jitana ho jata hai aur wajan (Weight) 500 gram ho jata hai is mahine me aap shishu ki halchal mahsus karne lagegi
6. chh: mahine Ka 27 vik ke shishu Ka aaKar fulagobh jitana ho jata hai aur wajan (Weight) 875 gram ho jata hai 27 ve vik me pahli bar shishu Apni aankhe khaolata hai
7. sat mahine Ka 31 vik ke shishu Ka aaKar Naariyal jitana ho jata hai aur wajan (Weight) ded kilo ho jata hai is vik tak shishu ke sharir ke sabhi ango viKas ho jata hai aur bhrun shishu ke jaisa dikhane lgata hai
8. aath mahine Ka 35 vik ke shishu Ka aaKar kharbuje jitana ho jata hai aur wajan (Weight) do kilo ho jata hai ab shishu lagatar bada ho raha hai isKaran aap shishu ke ultane-paltane aur utar-chadhav mahsus karegi Jisse Aapko thoda asahj bhi mahsus ho skata hai
9. no mahine Ka 39 vik ke shishu Ka aaKar tarbuj jitana v wajan (Weight) tin kilo ho jata hai aur 40 vik ke shishu Ka aaKar kaddu jitana v wajan (Weight) sadhe tin kilo ho jata hai ab aapKa ladala Aapki god me aane ke lea bilakul taiyar hai janm ke Samay shishu Ka sir bada gardan bilakul kam tange Chhoti aur dhad bada Hota hai parntu Yadi janm ke Samay Aapke shishu Ka wajan (Weight) 2.5 se 2.9 kilogram tak hai to bhi aapKa Baccha Swasth hai kyoki India me janm ke Samay shishu Ka wajan (Weight) kam Hota hai

nota: visheshgyon Ka manada hai jis prKar janm ke bad har shishu Ka viKas alag-alag tarike se Hota hai usi prKar garbh me bhi har shishu Ka viKas alag tarike se Hota hai Yah bhrun viKas ki janKari Aapko shishu ke viKas ke bare me samany andaja deti hai ki garbh me shishu kis prKar Hota hai

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *