आटे की गंध से जाने गर्भ में लड़का है या लड़की aate ki gandh se jane garbh me beta ya bitiya

आटे की गंध से जाने गर्भ में लड़का है या लड़की

baby boy in womb
baby boy in womb

जब कोई महिला मां बनने वाली होती है तो उसके मन में पहला सवाल यही आता है कि मेरा बच्चा बेटा होगा या बिटिया हालांकि इस बात का यह अर्थ बिलकुल नहीं होता कि उसके मन में बेटा और बेटी को लेकर कोई भेदभाव है कि सिर्फ एक मन की जिज्ञासा होती है कि मुझे बेटा होगा या बिटिया परंतु इसका अर्थ बेटा-बेटी में भेदभाव करना कतई नहीं है केवल यह गर्भवती महिला की उत्सुकता को शांत करना है

यदि गर्भवती महिला को पहले तीन महीनों में किचन में जाना व आटे की गंध अच्छी नहीं लगती है या इनकी गंध से उल्टी आती है तो इसका अर्थ है आपका होने वाला बच्चा लड़का ही होगा  इनके आलावा लहसुन व प्याज की गंध अच्छी नहीं लगना भी लड़का होना प्रतिक माना जाता है

यह प्राचीन मान्यताओं के आधार पर बनाया गया है प्राचीन समय में इन्हीं लक्षणों के माध्यम से लोग पता लगाया करते थे हालांकि बहुत से मामलों में सत्य पाया गया है परंतु यह पूर्णता सत्य नहीं है इसलिए इसका यूज आप अपने फन के लिए करें और बेटा बेटी में भेदभाव ना करें

Aatae ki gndh se jane garbh me ladKa hai ya Ladki

jab koi mahila Maa Banne vali hoti hai to Uske man me pahla saval Yahi aata hai ki mera Baccha beta Hoga ya bitaiya halanki is Baat Ka Yah arth bilakul nahin Hota ki Uske man me beta aur Beti ko lekar koi bhedabhav hai ki sirf ek man ki jijYasa hoti hai ki mujhe beta Hoga ya bitaiya parntu isKa arth beta-Beti me bhedabhav Karna kati nahin hai keval Yah garbhavti mahila ki utsukata ko shant Karna hai
Yadi garbhavti mahila ko Pehle tin mahino me kichan me jana v aatae ki gndh Acchi nahin lgati hai ya inaki gndh se ulti aati hai to isKa arth hai aapKa hone vala Baccha ladKa hi Hoga inake aalava lahsun v Pyaaz ki gndh Acchi nahin lgana bhi ladKa Hona pratik mana jata hai
Yah Prachin manyataon ke aadhar par banaya gaya hai Prachin Samay me inhin lakshanon ke madhyam se log pata lagaya karte the halanki bahut se mamalon me saty paaya gaya hai parntu Yah purnata saty nahin hai islea isKa Youj aap Apne phan ke lea karen aur beta Beti me bhedabhav na karen

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *