गर्भावस्था के दौरान रोने से शिशु पर क्या प्रभाव पड़ता है garbhavastha ke dauran rone se shishu par Kya prabhav padata hai

गर्भावस्था के दौरान रोने से शिशु पर क्या प्रभाव पड़ता है –

प्रेगनेंसी के दौरान तनाव का होना लाजमी है क्योकि इस समय महिला कई प्रकार के मानसिक और शारीरिक विकारो से गुजरती है जिस कारण से इस समय महिला का मन कभी रोने का करता है तो कभी हंसने का, परन्तु कुछ महिलाओ में इस समय भावात्मकता ज्यादा आ जाता है जिस कारण से उनको ज्यादा रोना आता है और वे हर समय तनाव में रहती है यदि आपके साथ भी ऐसा हो रहा है तो आप सावधान हो जाये क्योकि प्रेगनेंसी के समय ज्यादा रोने और डिप्रेशन रहने से इसका प्रभाव आपसे ज्यादा आपके शिशु के स्वास्थ्य पर पड़ता है और ऐसा भी माना जाता है कि जब माँ रोती है तो गर्भ पल रहा नन्हा शिशु भी रोता है माँ खुश होती है तो वह भी खुश होता है

pregnancy me rone ke nuksan
pregnancy me rone ke nuksan

आइये जाने प्रेगनेंसी में रोने से शिशु पर क्या प्रभाव पड़ते है
1. गर्भवती महिला के ज्यादा रोने से होने वाले शिशु को पेट दर्द की प्रॉब्लम ज्यादा रहती है
2. एक शोध में यह बात सामने आयी है कि जो गर्भवती महिलाएं ज्यादा रोती है उनका होने वाला बेबी कोलिकी प्रवृति का होता है कोलिकी प्रवृति का अर्थ है कि ये बच्चे सामान्य से ज्यादा रोने वाले होते है
3.ज्यादा रोने से या तनाव में रहने से शिशु के मानसिक विकास भी प्रभावित होता है
4. गर्भवती महिला के ज्यादा रोने व तनाव में रहने माँ और शिशु दोनों को माइग्रेन की प्रॉब्लम हो सकती है
डॉक्टर भी गर्भवती महिला को रोने और तनाव से दूर रहने की सलाह देते है इसलिए गर्भवती महिला को हर खुश रहना चाहिए यदि किसी बात का तनाव है तो उस बात से अपना ध्यान हटाने की कोशिश करे और आप अपना मुड ठीक करने के लिए ये काम कर सकती है जैसे 1.अपने शिशु के बारे में सोचे 2. अपनी पसंद का खाना खाये 3. अपने दोस्तों से बाते करे 4. अपनी मनपसन्द मूवी देखे 5.सकारात्मक सोच वाली किताबे पढ़े

garbhavastha ke dauran rone se shishu par Kya prabhav padata hai-

pregnancy ke dauran tanav Ka Hona lajami hai kyoki is Samay mahila kai prKar ke manasik aur sharirik vikaro se gujarti hai jis Karan se is Samay mahila Ka man kabhi rone Ka karta hai to kabhi hnsane Ka, parntu kuch mahilao me is Samay bhavatmkata Jyada aa jata hai jis Karan se unako Jyada rona aata hai aur ve har Samay tanav me rahti hai Yadi Aapke Saath bhi Aesa ho raha hai to aap savadhan ho jaye kyoki pregnancy ke Samay Jyada rone aur dipreshan rahne se isKa prabhav aapase Jyada Aapke shishu ke svasthy par pdata hai aur Aesa bhi mana jata hai ki jab man roti hai to garbh pal raha nadha shishu bhi rota hai man khaush hoti hai to vah bhi khaush Hota hai
aaiye jane pregnancy me rone se shishu par Kya prabhav pdate hai
1. garbhavti mahila ke Jyada rone se hone vale shishu ko Pet dard ki Problem Jyada rahti hai
2. ek shodh me Yah Baat samane aayi hai ki jo garbhavti mahilaen Jyada roti hai unKa hone vala bebi koliki pravrti Ka Hota hai koliki pravrti Ka arth hai ki ye bachhche samany se Jyada rone vale hote hai
3.Jyada rone se ya tanav me rahne se shishu ke manasik viKas bhi prabhavit Hota hai
4. garbhavti mahila ke Jyada rone v tanav me rahne man aur shishu dono ko maigren ki Problem ho Sakti hai
doctor bhi garbhavti mahila ko rone aur tanav se dur rahne ki salah dete hai islea garbhavti mahila ko har khaush rahna chahiey Yadi kisi Baat Ka tanav hai to us Baat se Apna dhyan hatane ki Try kare aur aap Apna mud thik karne ke lea ye Kam kar Sakti hai jaise 1.Apne shishu ke bare me soche 2. Apni pasnd Ka Khana khaye 3. Apne doston se Baate kare 4. Apni mnapsand movie dekhe 5.sKaratmak soch vali kitabe pdhe
 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *