गणेश चतुर्थी के दिन चंद्रमा देखने पर लगेगा चोरी का झूटा आरोप Happy Ganesh Chaturthi 25 august 2017

गणेश चतुर्थी के दिन चंद्रमा देखने पर लगेगा चोरी का झूटा आरोप Happy Ganesh Chaturthi 25 august 2017

गणेश चतुर्थी का चन्द्रमा देखने से चोरी का झूटा आरोप लगता है
भगवान श्री कृष्ण ने भी एक बार गणेश चतुर्थी का चाँद देख लिया था जिससे उनपर स्यमंतक मणि  चुराने का झूटा आरोप लगा था
गणेश चतुर्थी का चाँद देखने कलंक लगने की बात प्रचलित है परन्तु यदि गलती से गणेश चतुर्थी के दिन चंद्रमा दिख जाये तो इस कलंक से बचने का उपाय भी बताया गया है कहते हैं कि अष्टमी के दिन श्रीगणेश की इन बारह नामों से पूजा करने से इस कलंक से रक्षा हो जाती है
1- वक्रतुंड                      7- विघ्नराजेन्द्र
2- एकदंत                       8- धूम्रवर्ण
3- कृष्णपिंगाक्ष                 9- भालचंद्र
4- गजवक्त्र                    10-विनायक
5- लंबोदर                      11- गणपति
6- विकट                        12- गजानन
दूसरा उपाय – इस कलंक से बचने के लिए स्यमंतक मणि की कथा भी सुन सकते है
गणेश चतुर्थी के दिन चांद नहीं देखने के पीछे पौराणिक कथा
एक बार गणेश जी को चंद्रलोक से भोज का आमंत्रण आया था ये तो सभी जानते हैं कि गणेश जी को मोदक अत्यंत प्रिय हैं इसलिए गणेश जी ने वहां पर जी भर कर मोदक खाए और वापस लौटते समय बहुत से मोदक साथ भी ले आये  मोदक बहुत ज्यादा थे इसलिए मूषक की सवारी पर संभाले नहीं गये और गणेश जी के हाथ से मोदक गिर गये ये देखकर चंद्र देव हंसने लगे चंद्रदेव को हंसता देख गणेश जी क्रोधित हो उठे और क्रोध के आवेग में आकर चंद्रदेव को श्राप दे दिया कि जो भी तुम्हें देखेगा उस पर चोरी का इल्जाम लगेगा चंद्रदेव घबरा गये उन्होंने गणेश जी के चरण पकड़ लिए और यह श्राप वापस लेने का आग्रह किया लेकिन दिया गया श्राप वापस ले पाना तो स्वयं गणेश जी के हाथ में नहीं था उस दिन चतुर्थी थी, इसलिए गणेश जी ने उस श्राप को चतुर्थी तक ही सीमित कर दिया चतुर्थी का चांद ना देखने के पीछे इसी पौराणिक कथा की ही भूमिका है

ganesh chaturthi ke din chndrama dekhane par lagega chori Ka jhuta aarop Happy Ganesh Chaturthi 25 august 2017

ganesh chaturthi Ka chandrama dekhane se chori Ka jhuta Rop lgata hai
Bhagwan shri Krishn ne bhi ek bar ganesh chaturthi Ka chand dekha liya tha Jisse unapr syamntak mni  churane Ka jhuta Rop laga tha
ganesh chaturthi Ka chand dekhane kalnk lgane ki Baat prchalit hai parntu Yadi galti se ganesh chaturthi ke din chndrama dikha jaye to is kalnk se bchane Ka upaay bhi bataya gaya hai kahte hain ki ashatami ke din shriganesh ki in barah Nameon se puja karne se is kalnk se raksha ho jati hai
1- vakratund                      7- vighnarajendra
2- ekadnt                       8- dhumravarn
3- Krishnpingaksha                 9- bhalachandra
4- gajvaktr                    10-vinayak
5- lmbodar                      11- ganPati
6- vikat                        12- gajanad
Dusra upaay – is kalnk se bchane ke lea syamntak mni ki katha bhi sun sakte hai
ganesh chaturthi ke din chand nahin dekhane ke pichhe pauranik katha
ek bar ganesh ji ko chndralok se bhoj Ka aaMantran aaya tha ye to sabhi janate hain ki ganesh ji ko Modak atynt priy hain islea ganesh ji ne vahan par ji bhar kar Modak khae aur vapas lautate Samay bahut se Modak Saath bhi le aaye  Modak bahut Jyada the islea mushak ki savari par snbhale nahin gaye aur ganesh ji ke hath se Modak gir gaye ye dekhakar chndr dev hnsane lage chndradev ko hnsata dekha ganesh ji Angerit ho uthe aur Anger ke aaveg me aakar chndradev ko shrap de diya ki jo bhi tumhen dekhega us par chori Ka iljam lagega chndradev ghabra gaye unhonne ganesh ji ke charn pkad lea aur Yah shrap vapas lene Ka aagrah kiya lekin diya gaya shrap vapas le paana to svayn ganesh ji ke hath me nahin tha us din chaturthi thi, islea ganesh ji ne us shrap ko chaturthi tak hi simit kar diya chaturthi Ka chand na dekhane ke pichhe isi pauranik katha ki hi bhumiKa hai

 

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *